अब रमन सिंह बताएं कि पनामा पेपर्स वाले अभिषाक ही उनके बेटे अभिषेक सिंह हैं या नहीं: कांग्रेस

 

 

 

 

अब रमन सिंह बताएं कि पनामा पेपर्स वाले अभिषाक ही उनके बेटे अभिषेक सिंह हैं या नहीं: कांग्रेस

 

 

 अगर नहीं हैं तो अब तक शिकायत क्यों नहीं दर्ज करवाए अगर हैं तो पहले झूठ क्यों बोलते रहे रमन सिंह?विदेश में जमा कालाधन क्या अगुस्टा की दलाली से आया? 

 

रायपुर/04 अगस्त 2020। कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह से पूछा है कि अब रमन सिंह बता दें कि पनामा पेपर्स में जिस अभिषाक सिंह का नाम है वह उनका पूर्व सांसद बेटा अभिषेक सिंह ही है या नहीं? कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पहले तो रमन सिंह इस बात से इंकार करते रहे कि अभिषेक सिंह अभिषाक सिंह नहीं हैं लेकिन अब वे सच बता दें।

 

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पनामा पेपर्स में जब अभिषाक सिंह का नाम आया तो रमन सिंह कहते रहे कि वे अभिषाक सिंह को नहीं जानते लेकिन जब से कांग्रेस ने सबूत दिए हैं कि उनके बेटे और पूर्व सांसद अभिषेक सिंह ही अभिषाक सिंह हैं तब से वे चुप्पी साधे बैठे हैं।

 

पनामा पेपर्स में दिए गए पते पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पनामा पेपर्स में ‘रमन मेडिकल स्टोर्स, विंध्यवासिनी वार्ड, कवर्धा’ का पता है, अगर ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में कालाधन जमा करवाने के लिए किसी और व्यक्ति ने इस पते का दुरुपयोग किया है तो उन्होंने मुख्यमंत्री रहते इसकी शिकायत क्यों नहीं की?

 

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि अगर वे पहले इसकी शिकायत नहीं कर पाए तो अब भूपेश सरकार से इसकी शिकायत कर दें और कांग्रेस वादा करती है कि सरकार इसकी निष्पक्ष जांच करेगी।

 

संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह को इस बात का भी जवाब देना चाहिए कि उनके घर के पते पर विदेश में जमा हुआ कालाधन अगुस्टा हेलिकॉप्टर की धांधली और दलाली से कमाया हुआ पैसा तो नहीं था? उन्होंने कहा है कि रमन सिंह छत्तीसगढ़ की जनता के प्रति जवाबदेह हैं और उन्हें बताना चाहिए कि उनके पते पर खुले खाते में पैसा किसका है और कहां से आया?

 

 

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि रमन सिंह यह कतई न सोचें कि वे सत्ता से हटते ही जवाबदेही से मुक्त हो गए हैं। वे अपने 15 साल के कार्यकाल की हर धांधली, हर कमीशनखोरी और हर दलाली के लिए जवाबदेह हैं और उन्हें जनता को जवाब देना ही होगा। अभी पनामा पेपर्स की जांच चल रही है और आज नहीं तो कल सच तो सामने आ ही जाएगा और तब तक जनता की ओर से कांग्रेस सवाल पूछती रहेगी कि छत्तीसगढ़ का नवाज़ शरीफ़ कौन है?

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *