एक प्रश्र के पीछे 10 लाख रूपये खर्च आता है-महंत

0-विधानसभा अध्यक्ष ने सभी सदस्यों से रिक्त पदों से संबंधित प्रश्र लगाने से बचने हेतु निवेदन किया
0-मंत्री रविन्द्र चौबे व अजीत जोगी ने किया समर्थन
0-भाजपा सदस्यों ने जतायी आपत्ति
रायपुर। विधानसभा अध्यक्ष डा. चरणदास महंत ने आज विधानसभा में सभी सदस्यों से निवेदन किया कि वे जो भी प्रश्र लगाते है सोच-समझ कर लगाया करें, क्योंकि एक प्रश्र लगाने के पीछे 10 लाख रूपये तक खर्च आता है।
प्रश्रकाल में आज सदस्य देवेन्द्र बहादुर सिंह द्वारा महासमुंद जिले अंतर्गत बसना और पिथौरा के महाविद्यालयों में रिक्त पदों को लेकर उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल से जानकारी मांगी। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने डा. महंत ने सवालों के स्वरूप को लेकर चिंता जताई और सभी सदस्यों से निवेदन किया कि इस तरह के प्रश्र लगाने से वे बचे, क्योंकि एक प्रश्र के पीछे 10 लाख रूपये तक खर्च आता है। अध्यक्ष ने कहा कि सदस्यों को ऐसे सवालों से बचना चाहिए। अध्यक्ष के इस निवेदन स्वरूप व्यवस्था का संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे और अजित जोगी ने भी समर्थन किया, हालांकि भाजपा सदस्यों ने इस पर आपत्ति की। नेताप्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, अजय चदं्राकर ने इस व्यवस्था पर आपत्ति जतायी। हालांकि अध्यक्ष डा. महंत ने कहा कि इस संबंध में मैने सिर्फ सदस्यों से निवेदन किया है व्यवस्था नहीं दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *