Friday, September 25

एम्स सुरक्षा एजेंसी की लापरवाही का नतीजा, एम्स में कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग ने की आत्महत्या ?

*एम्स सुरक्षा एजेंसी का टेंडर रद्द करने की मांग।*

*परिजनों को 10 लाख रुपया क्षतिपूर्ति देने की मांग*

✍🏻 *रायपुर, छत्तीसगढ़, दिनांक 13 अगस्त 2020। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश प्रवक्ता, अधिवक्ता भगवानू नायक ने राज्य की सबसे बड़ी चिकित्सालय एम्स में मंगलवार-बुधवार की देर रात कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग के द्वारा आत्महत्या किए जाने पर इसे राज्य सरकार और एम्स सुरक्षा एजेंसी की लापरवाही का नतीजा बताते हुए कहा राज्य सरकार कोरोना बढ़ते हुए कहर के कारण पीड़ित मरीजों को उचित स्वास्थ्य लाभ दिलाने में असफल साबित हो रही है। यही कारण है कि उचित सुरक्षा के अभाव के चलते राज्य के सबसे बड़े चिकित्सालय एम्स के अधीनस्थ और निगरानी में उपचाराधीन कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग ने एम्स के तीसरी मंजिल से कूद कर आत्महत्या कर ली। इस घटना से करोड़ो का सुरक्षा के नाम पर टेंडर लेने वाले एजेंसी पर सवाल खड़ा हो जाता है कि एक कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग देर रात तीसरी मंजिल से आत्महत्या कर लेता है और ऐसे में सुरक्षा एजेंसी के सुरक्षा कर्मी क्या कर रहे थे ?.*

*भगवानू नायक ने कहा इसमें कोई संदेह नहीं है कि एम्स सहित राज्य के विभन्न चिकित्सालयों में इस विकट संकट की घड़ी में छत्तीसगढ़ के हजारों ईश्वर तुल्य डॉक्टर्स, नर्स, मेडिकल स्टाफ, कोरोना वारियर्स, कोरोना योद्धाओं 24 घण्टे कोरोना को हराने रात दिन मेहनत कर रहे है जिसके लिए वे लोग साधुवाद के पात्र है। परन्तु सरकार के द्वारा बनाए गए कई क्वॉरेंटाइन सेंटर में असुविधाओं के चलते कई लोग आत्महत्या कर चुके हैं, इसके अतिरिक्त कंटेनमेंट जोन में भी अव्यवस्थाओं के कारण लोग परेशान होकर प्रदर्शन करने के लिए आमादा हो रहे हैं । इसी कड़ी में एम्स में भर्ती एक कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग के द्वारा देर रात आत्महत्या कर लिया गया है जिसे एम्स के द्वारा मानसिक रोगी बताई जा रही जबकि उसके परिजनों के द्वारा स्पष्ट रूप से यह कहा जा रहा है कि वह मानसिक रोगी नहीं थे। परिजनों के अनुसार उनके कोरोना होने के संबंध में भी परिजनों की सूचना नहीं दी गई है जो कि इस मामले में प्रश्न चिन्ह लगाता है ?*

*नायक ने कहा एम्स में हुए बुजुर्ग आत्महत्याकांड की जांच करने , दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने और एम्स के सुरक्षा एजेंसी के ते टेंडर को रद्द करने के साथ हीं पीड़ित परिजनों को 10 लाख रुपए क्षतिपूर्ति राशि प्रदान करने की मांग की है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *