Monday, September 21

गजियाबाद भांजी से छेड़छाड़ का विरोध किया,बदमाशो ने पत्रकार को गोली मारी आज सुबह मौत

गजियाबाद: दिल्ली से सटे गाज़ियाबाद में सोमवार की रात बदमाशों ने एक पत्रकार पर गोली मारी थी, क्योंकि उसने 16 जुलाई को भांजी के साथ हुई छेड़छाड़ की शिकायत की थी. बुधवार की सुबह घायल पत्रकार ने अस्पताल में दम तोड़ दिया. पत्रकार विक्रम जोशी पर गोली चलाए जाने के मामले में मंगलवार तक पुलिस ने नौ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. वहीं, चौकी इंचार्ज समेत दो पुलिस कर्मियों को लापरवाही बरतने पर सस्पेंड भी कर दिया गया है. परिवार वालों ने पत्रकार का शव लेने से इनकार कर दिया है. परिजनों का कहना है कि पहले दोषियों को पकड़ा जाए. इसके साथ ही पत्रकार भी प्रदर्शन कर रहे हैं.गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की मौत के बाद आम लोगों में खासा गुस्सा है. परिवार ने फिलहाल पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया है और अस्पताल के सामने धरने पर बैठ गए हैं. परिवाल वालों की मांग है कि एक सदस्य को नौकरी दी जाए और परिवार को सुरक्षा. मौके पर जिलाधिकारी पहुंचे हैं और परिवार वालों को समझाने में जुटे हैं.

दरअसल, गाज़ियाबाद में पत्रकार ने अपनी भांजी के छेड़ने की तहरीर पुलिस को दी थी. पुलिस ने ना उसमें कार्रवाई की और ना ही किसी की गिरफ्तारी की. इसके बाद तहरीर देने से नाराज़ बदमाशों ने सोमवार की देर रात पत्रकार को गोली मार दी. थाना विजयनगर क्षेत्र के अंतर्गत हुई घटना के संबंध में एसपी सिटी ने बताया कि इस घटना के मुख्य आरोपी रवि सहित अन्य को गिरफ्तार किया गया है.

बताते चले कि घटना की एक सीसीटीवी फुटेज सामने आई है, जिसमें देखा जा सकता है कि पांच-छह बदमाश जोशी को घेरकर मार रहे हैं, तभी एक दूसरा अपराधी आता है, और उनके सिर में बिल्कुल करीब से गोली मार देता है. गोली लगने के बाद जोशी जमीन पर गिर जाते हैं और बदमाश भाग जाते हैं. जिसके तुरंत बाद उनकी बेटी पास में आती है और घबराई हुई मदद के लिए चिल्लाती है.

विक्रम जोशी का कसूर बस इतना था कि उनकी भांजी को लगातार छेड़ा जा रहा था और उन्होंने उन बदमाशों के खिलाफ थाने में शिकायत दी थी. तहरीर देने से नाराज बदमाशों ने सोमवार रात विक्रम को गोली मार दी. विक्रम के सिर में गोली लगी, वह गंभीर हालत में यशोदा अस्पताल में भर्ती थे. हालांकि पुलिस का कहना है कि जो भी होगा आरोपी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी. परिजनों का भी कहना है कि अगर विक्रम की तहरीर पर कार्रवाई होती तो आज यह घटना ना होती. विक्रम की भांजी को लगातार छेड़ा जा रहा था और उसके बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *