चांद पर कदम रखने वाले देश के एक गांव में विकास की एक ईंट तक नहीं सरायपाली के तिलाईमाल मे नही पंहुची विकास की किरण

Exclusive
Imnb news महासमुंद
किशोर कर ब्यूरोचीफ

महासमुंद – देश इन दिनों एक और जहां चांद पर कदम रखने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर रहा है वहीं दूसरी ओर धरातल पर ग्रामीण विकास को लेकर के कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है दरअसल महासमुद जिले के सुदूरवर्ती सराईपाली ब्लाक अंतर्गत ब्लॉक मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम तिलाईमाल इसका ताजा उदाहरण है जहां आजादी के 7 दशक बाद भी आज तक विकास की किरण नहीं पहुंच पाई है गांव में रहने वाले भोले-भाले ग्रामीण आज भी आधुनिक सुविधाओं को मोहताज हैं चारों और जंगलों से घिरे तिलाईमाल गांव बिकास से पूरी तरह से अछूता नजर आ रहा है। वनांचल क्षेत्र में जिले के अंतिम छोर पर स्थित यह गांव समय-समय पर नक्सलियों के आमंत्रित की वजह से सुर्खियों में रहता है गांव में पहुंचने के लिए लगभग 3 किलोमीटर तक पगडंडियों से होकर जाना पड़ता है जहां सड़क का विकास आज तक नहीं हो पाया है वहीं दूसरी ओर गांव में पानी की कोई व्यवस्था शासन की ओर से नहीं की गई है ऐसे हालातों में यहां रहने वाले लोगों का जीवन यापन कैसे होता होगा इसका अंदाजा लगाया जा सकता है हम आपको बता दें कि यह गांव चारों और जंगलों से घिरा हुआ दाम है जहां के लोग मुख्य रूप से आदिवासी जनजाति पिछड़ी वर्ग के हैं ऐसे लोगों को समाज के मुख्यधारा में जोड़ने के लिए शासन की ओर से अनेक योजनाएं संचालित की जाती है लेकिन ऐसी योजनाओं का लाभ यहां के ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा है मूलभूत जरूरतों के लिए भी यह गांव तरस रहा है ऐसे में सरकार की ओर से किए जा रहे विकास के दावे यहां आकर के खोखले साबित हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *