जीवनदीप समिति के लाखों रुपये 8 सालों से करते रहे निजी उपयोग रिटायरमेंट के चंद दिन पहले हुए जमा शासन को हुई ब्याज में लाखों रुपये की हानि

चन्द्र शेखर शर्मा कवर्धा

कवर्धा – सी आर एम सी योजना में नियम विरुद्ध लाखो रुपये लेने वाले डॉक्टर ने जिले की विभिन्न जीवनदीप समिति के लाखों रुपये का नियम विरुद्ध सालों तक निजी उपयोग करते रहे मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय से बार बार पत्र जारी होने के बावजूद राशि जमा नही की गई किन्तु रिटायरमेंट के चंद दिनों पूर्व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में राशि जमा कर दी गई ताकि रिटायरमेंट के प्रकरण में कोई रोक टोक न हो । साहब की होशियारी और अमानत में खयानत की प्रवृत्ति के चलते जीवनदीप समिति को ब्याज के रूप में मिलने वाली राशि का नुकसान हुआ सो अलग ।
मिली जानकारी अनुसार वर्ष 2012 _13 व 2013 _14 में 24 दिसम्बर 2019 की स्थिति में डॉ पी एल कुर्रे ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र छीरपानी की एक लाख पन्द्रह हज़ार नौ सौ रुपये , दामापुर की एक लाख रुपये , किशुनगढ़ जीवनदीप समिति के एक लाख पचहत्तर हज़ार रूपये इस तरह तीनो जीवनदीप समितियों के कुल तीन लाख नब्बे हज़ार नौ सौ रुपये का 8 सालों से निजी उपयोग करते रहे बार बार नोटिस के बावजूद राशि जमा नही की गई किन्तु रिटायरमेंट के चंद दिनों पूर्व पेंशन प्रकरण में रुकावट की आशंकाओं के चलते अचानक राशि जमा कर दी गई । डॉ की मनमानी के चलते उक्त तीनों जीवनदीप समितियों को लाखों रुपये के रूप में ब्याज के रूप में मिलने वाली राशि का नुकसान हुआ । जानकार सूत्र बताते है कि जीवन दीप समितियों का पैसा इतने दिनों में डबल हो जाता । इस तरह अमानत में खयानत कर शासकीय राशि को निजी उपयोग करते रहे । रिटायरमेंट के चंद दिनों पूर्व अचानक रिटायरमेंट की फाइल कही अटक न जाय करके राशि दो किश्तों में जमा कर दी जाती है । किंतु शासन को हुई ब्याज के रूप में हानि की भरपाई कौन करेगा विभाग के आला अधिकारी इसे लेकर मौन है ।
मिली जानकारी अनुसार जिले में पदस्थ रहे डॉ पी एल कुर्रे ने अपनी पदस्थापना के दौरान जम कर मनमानियाँ की और अपनी पहुँच व प्रभाव के चलते अपने ऊपर होने वाली कार्यवाहियों की फाइलें भी दबवा देते रहे है । मिली जानकारी अनुसार सीआरएमसी योजना अंतर्गत गलत तरीके से भुगतान लेने की जांच वर्ष 2017 से लंबित पड़ी है जबकि साहब रिटायर हो गए है । जानकार सूत्र बताते है कि ईमानदारी से जांच हो जाय तो साहब से लाखों रुपये की वसूली भी हो सकते है ।
डॉ पी एल कुर्रे के कारनामे सीआरएमसी योजना तक ही होते तो समझ आता किन्तु इन्होंने तो सरकारी फंड को अपने घर की खेती समझ जब चाहे निजी उपयोग हेतु उपयोग करते रहे और अपने प्रभाव व पहुंच के चलते सरकार के खाते में जमा भी नही करते रहे किन्तु इन पर कार्यवाही के नाम पर सिर्फ पत्रचार की खाना पूर्ति की जाती रही है ।

वर्सन
जीवन दीप समिति में राशि आहरण पर उन्हें नोटिश दिया गया था पैसा जमा करा दिया गया है । सी आर एम सी योजना में गड़बड़ी को लेकर कलेक्टर कार्यालय में जांच लंबित है ।
डॉ एस के तिवारी
मुख्यचिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कवर्धा कबीरधाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *