Sunday, September 27

राहुल गांधी के बयान पर मोदी का तंज, खुद को गालीप्रूफ बना ही चुका हूं, डंडे खाने को पीठ मजबूत करूंगा

नई दिल्ली। आज संसद के बजट सत्र के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा की। गौरतलब है कि राष्ट्रपति के अभिभाषण को बिना किसी संशोधन के पारित कराने की जिम्मेदारी सरकार की होती है। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पीएम मोदी ने कई मुद्दों पर बात की। इस कड़ी में वे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरने से भी नहीं चूके। पीएम मोदी ने राहुल के बुधवार के भाषण पर जवाब देते हुए तंज किया कि 6 महीने बाद जो मुझे डंडे पड़ेंगे उसके लिए मैं सू्र्यनमस्कार कर अभी से पीठ मजबूत करूंगा।
बता दें कि कल रैली के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि ये जो नरेंद्र मोदी भाषण दे रहा है, 6 महीने बाद ये घर से बाहर नहीं निकल पाएगा। हिंदुस्तान के युवा इसको ऐसा डंडा मारेंगे, इसको समझा देंगे कि हिंदुस्तान के युवा को रोजगार दिए बिना ये देश आगे नहीं बढ़ सकता।
इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि कुछ माननीय सदस्य कहते हैं कि ये काम क्यों नहीं हुआ, कब तक करेंगे, कब होगा, कैसे होगा। तो कुछ लोगों को लगता है कि आप आलोचना करते हैं, लेकिन मुझे नहीं लगता कि आप आलोचना करते हैं। मुझे खुशी है कि आप मुझे समझते हैं, आपको भी पता है कि करेगा तो ये ही करेगा। मोदी ने कहा कि अगर कांग्रेस के रास्ते हम चलते ,तो 50 साल बाद भी शत्रु संपत्ति कानून का इंतजार देश को करते रहना पड़ता। 35 साल बाद भी नेक्स्ट जनरेशन लड़ाकू विमान का इंतजार देश को करते रहना पड़ता। 28 साल बाद भी बेनामी संपत्ति कानून लागू नहीं हो पाता।
उन्होंने कहा कि हमने जिस तेज गति से काम किया है, उसका परिणाम है कि देश की जनता ने इसे देखा और देखने के बाद, उसी तेज गति से आगे बढ़ने के लिए हमें फिर से सेवा का मौका दिया। अगर ये तेज गति न होती तो 37 करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट इतनी जल्दी नहीं खुलते।अगर गति तेज न होती तो 11 करोड़ लोगों के घरों में शौचालय न बनते। 3 करोड़ गरीब लोगों के घर में गैस का चूल्हा नहीं पहुंचता। 2 करोड़ नए घर गरीबों के लिए नहीं बनते। लंबे समय से अटकी दिल्ली की 1,700 कॉलोनियों को नियमित करने का काम पूरा न होता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *