विद्यालय में ज्ञान रूपी अमृत-पान कराने वाले (शिक्षक) से ज्यादा सरकार को मधुशाला में मदिरा-पान कराने वाले (बियर बार संचालक) की चिंता -अमित

रायपुर, छत्तीसगढ़, दिनांक 5 सितंबर 2020। “शिक्षक दिवस” के पावन अवसर पर प्रदेश के लाखों अनियमित शिक्षकों की आवाज को पुनः बुलंद करते हुए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेशाध्यक्ष श्री अमित जोगी ने कहा प्रदेश में लाखों अनियमित शिक्षक पूरी निष्ठा और ईमानदारी से वर्षों से सेवाएं देते आ रहे हैं फिर भी शिक्षकों का भविष्य सुरक्षित नहीं है, सीमित और अल्प आय के कारण आर्थिक तंगी और असुरक्षित भविष्य से तंग आकर शिक्षक लागातर नियमितीकरण की मांग कर रहे है और नियमितीकरण के लिए संघर्ष कर रहे हैं लेकिन सरकार की कानों में जूं तक नहीं रेंग रहा है।

श्री अमित जोगी ने कहा शिक्षक नई पीढ़ी के भविष्य के रचनाकार है परंतु नियमतिकरण के अभाव में खुद शिक्षकों का भविष्य अंधेरे में है। प्रदेश में अंधेर नगरी की स्थिति बनी हुई है जहाँ सरकार को विद्यालय में ज्ञान का अमृत पिलाने वाले शिक्षक से ज्यादा मधुशाला में मदिरा पिलाने वाले (बियर बार संचालको) की ज्यादा चिंता है तभी तो कोरोनाकाल में चरमराई हुई अर्थव्यवस्था के बाबजूद सरकार के झटके में बियर बार के करोड़ो रुपयों का लायसेंस फीस को माफ कर देती है पर शिक्षकों के नियमितीकरण के लिए सरकार के पास रुपयों की कमी है।

भयंकर कोरोनाकाल में भी शिक्षकों के नियमतिकरण के लिए भूख हड़ताल करने वाले अमित जोगी ने कहा छत्तीसगढ़ की शिक्षा व्यवस्था को सुदृण करने में शिक्षकों का महत्वपूर्ण योगदान है शिक्षकों के सेवाकाल उनकी आर्थिक स्थिति और असुरक्षित भविष्य को ध्यान में रखते हुए सरकार को तत्काल शिक्षकों के हित में अन्य राज्यों की तरह नीति बनाकर नियमितीकरण करनी चाहिए तभी शिक्षक दिवस सार्थक होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *