सोशल डिस्टेन्स करे पब्लिक,माननीयों के स्वागत रैली मे महामारी रोकथाम के लिए जारी तमाम निर्देशो को ठेंगा

किशोर कर ब्यूरो चीफ महासमुंद

 

कोरोना महामारी  में हुई नियुक्तियों के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर जारी

महासमुंद- वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के इस दौर में छत्तीसगढ़ के भूपेश बघेल सरकार ने रेवड़ियों की तरह विभिन्न निगम मंडलों और प्राधिकरण के दायित्व का विभाजन किया और संसदीय सचिवों को नियुक्त कर एक बड़ा फैसला लिया। जाहिर सी बात है प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार सत्ता के विकेंद्रीकरण पर जोर देते हुए अपने मातहत को खुश करने में कोई कसर नहीं छोड़ी लेकिन सरकार के हाल ही में दी गई नियुक्ति के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर भी शुरू हो गया है । लोग यह चर्चा करने से नहीं अघा रहे हैं की आखिरकार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले जिन्हें विधायक पद के लिए पार्टी की ओर से अधिकृत तौर पर टिकट दी गई और वह विधायक भी बन गए उन्हें अधिकांश पद क्यों दे दिया गया ? जाहिर सी बात है पार्टी निर्देशों के तहत जिन्होंने विधायक पद के लिए टिकट छोड़ दी थी आज भी मन मसोसकर पार्टी का झंडा पकड़े हुए हैं लेकिन जो विधानसभा चुनाव जीतकर विधायक बन गए हैं उन्हें फिर से दोहरा पद लाभ देने की क्या जरूरत थी ? यह सवाल राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है। दूसरी ओर विपक्ष में रहते हुए संसदीय सचिवों का विरोध करने वाली कांग्रेस अपने शासनकाल में संसदीय सचिवों को नियुक्त कर भाजपा के नक्शे कदम पर चलने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है , राजनीतिक जानकार इसे भूपेश सरकार की तुष्टीकरण की नीति बता रहे हैं ।
दूसरी ओर वैश्विक महामारी कोरोना वायरस में सावधानी बरतने के तमाम निर्देश शासन प्रशासन की ओर से जारी किए जा रहे हैं लेकिन इसी बीच संसदीय सचिव सहित विभिन्न विकास प्राधिकरण और नोएडा मंडलों में अध्यक्ष उपाध्यक्ष बने नेताओं को अपने विधानसभा क्षेत्र में पहुंचने पर जिस कदर उनका स्वागत और रैली निकाली जा रही है उससे महामारी को लेकर के जारी तमाम दिशा निर्देशों की धज्जियां उड़ रही हैं रैली के दौरान न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहा है और ना ही रैली में शामिल लोग मार्च का उपयोग कर रहे हैं लेकिन विडंबना है ना तो शासन प्रशासन इस ओर ध्यान दे रहा है और ना ही स्थानी पुलिस दरअसल जिनके हाथों में है उसके खिलाफ उन्हीं का प्रशासन भला कैसे खड़े हो ? यह सवाल भी सामने आ गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *