हमारी खबर पर राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार साय ने लिया संज्ञान,आदिवासी परिवार का गांव में बहिष्कार,

 

कांफ्रेंस के माध्यम से लिए पीड़ित परिवार की संपूर्ण जानकारी

महासमुंद – छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में सराईपाली ब्लाक अंतर्गत ग्राम डूमरपाली में एक आदिवासी परिवार के गांव से बहिष्कृत किये जाने के मामले में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार साय ने संज्ञान लिया है। अजजा आयोग के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री साय ने दूरभाष में कांफ्रेंस के माध्यम से पीड़ित परिवार की संपूर्ण जानकारी ली है

और इसे प्रदेश सरकार की नाकामी भी बताया है , उन्होंने कांफ्रेंस के दौरान कहा कि आदिवासी परिवार का प्रताड़ित होना बहुत बड़ी नाकामी है सरकार को इस पर तत्काल एक्शन लेना चाहिए और दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए कांफ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि आयोग की ओर से मामले को संज्ञान में लेकर जांच और कार्यवाही के निर्देश दिए जा रहे हैं।
हम आपको बता दें कि हमारे द्वारा “IMNB” के माध्यम से आदिवासी परिवार के 6 महीने से गांव में बहिष्कृत जीवन जीने की खबर का प्रकाशन प्रमुखता के साथ किया गया था। खबर प्रकाशन के बाद राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष ने खबर में उल्लेखित मामले को गंभीर बताते हुए तत्काल संज्ञान में लिया है और उचित कार्रवाई की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *