Monday, September 28

बलोदा बाज़ार

सरकार अपना पीठ स्वंय ठोक रही है,दूसरी तरफ पत्नि की मौत, 3 दिन भूखे प्यासे भटकता रहा पति, प्रगतिशील सतनामी समाज के प्रयास से मिली अंतिम संस्कार के लिए शव
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, बलोदा बाज़ार, बिलासपुर, महासमुंद, रायपुर

सरकार अपना पीठ स्वंय ठोक रही है,दूसरी तरफ पत्नि की मौत, 3 दिन भूखे प्यासे भटकता रहा पति, प्रगतिशील सतनामी समाज के प्रयास से मिली अंतिम संस्कार के लिए शव

    रायपुर, 26 जुलाई 2020। कोरोना संक्रमण को लेकर सरकारी बदइंतजामी थमने का नाम नहीं ले रहा है। कहीं इलाज में लापरवाही तो कहीं क्वारेंटाइन सेंटर में अव्यवस्था और अब मौत के बाद शव की सुपुर्दगी को लेकर जटिल प्रक्रिया लॉकडाउन के जंजाल के बीच पहाड बनकर मुसीबतें पैदा कर रही है। राजधानी के डॉ. अंबेडकर अस्पताल के प्रबंधन की लापरवाही और शासन की गैरजिम्मेदाराना रवैया के बीच परिजनों को हताश व परेशान करने वाली है। प्रगतिशील छत्तीसगढ़ सतनामी समाज की अथक प्रयास से बिलाईगढ़ ग्राम परसाठीह निवासी श्रीमती शशिकला दिवाकर की अतिम बिदाई कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। ज्ञात हो कि शशिकला दिवाकर की मृत्यु 24 जुलाई 2020 को प्रातः 6 बजे Corona positive होने के कारण मृत्यु हो गई थी। जिनकी बॉडी 3 दिनों से अव्यवस्था के कारण मेकाहरा रायपुर में रखी थी। जिसकी जानकारी प्रगतिशील छत्तीस...
शराब दुकान खोलने पर माकपा ने पूछा — भूपेश सरकार की प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना
कवर्धा, कांकेर, कोंडागांव, कोरबा, कोरिया, खास खबर, गरियाबंद, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर, जशपुर, जांजगीर – चाम्पा, दंतेवाड़ा, दुर्ग, धमतरी, नारायणपुर, बलरामपुर, बलोदा बाज़ार, बालोद, बिलासपुर, बेमेतरा, महासमुंद, मुंगेली, राजनांदगांव, रायगढ़, रायपुर, सरगुजा-अंबिकापुर

शराब दुकान खोलने पर माकपा ने पूछा — भूपेश सरकार की प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना

  *मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी* ने कोरोना महामारी के मद्देनजर लॉक डाऊन के दौरान शराब दुकानें खोले जाने के राज्य सरकार के फैसले की तीखी निंदा की है और पूछा है कि सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि उसकी प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना? पार्टी ने कहा है कि आम जनता की जिंदगी की कीमत पर मुनाफा कमाने की सरकार को इजाजत नहीं दी जा सकती। आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिव मंडल ने कहा है कि लॉक डाऊन के दौरान प्रदेश की 80% आबादी के सामने आजीविका बर्बाद होने के कारण रोजी-रोटी की समस्या आ खड़ी हुई है। अभी तक सरकार ने दो माह के मुफ्त अनाज की घोषणा के अलावा आम जनता को राहत देने के कोई भी कदम नहीं उठाए हैं। मुफ्त राशन वितरण में भी आदिवासी अंचलों में भारी गड़बड़ियां होने की शिकायतें सामने आ रही है। लॉक डाऊन के दौरान सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर तबकों और बेसहारा लोगों के लिए भोजन की व...