Sunday, September 27

Covid- 19:: चैत्र नवरात्र पर माता मंदिरों में भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित

महासमुंद किशोर कर ब्यूरोचीफ़

पुजारी करेंगे पूजा आराधना

महासमुंद. देश सहित पूरे प्रदेशभर में कोरोना को लेकर अलर्ट है. इसे देखते हुए नवरात्र पर्व में भी कोरोना वायरस को लेकर एहतियात बरती जा रही है. महासमुंद जिले में भी एहतियात के तौर पर धारा 144 जिलेभर में लागू है. जिले की सुरक्षा के मद्देनजर लॉक डाउन किया गया है. साथ ही नवरात्र के इन दिनों में जहां जिले के छोटे बड़े मंदिरों को सेनेटराइज किया जा रहा है. वहीं इस बार नवरात्र के इन नौ दिनों में भीड़ को ध्यान में रखकर भक्तों के लिए मंदिरों के पट बंद रहेंगे. जिले के किसी भी मंदिर में भक्तों का प्रवेश वर्जित रहेगा. केवल मंदिर समिति के सदस्य और पुजारी ही देवी मंदिरों में पूजा पाठ करेंगे. साथ ही देवी मंदिरों में जलने वाले ज्योति कलश में भी माई ज्योति जलाई जाएगी और भक्तों के द्वारा जलाया जाने वाला मनोकामना ज्योति कलश पर भी मंदिर समितियों ने प्रतिबंध लगाया है.आपको बता दें कि 25 मार्च से चैत्र नवरात्र की शुरूआत हो रही है. दोनों ही नवरात्रि में महासमुंद जिले के सिंघोडा के रुद्रेश्वरी माता मंदिर, मां महामाया मंदिर, बिरकोनी की मां चंडी मंदिर, खल्लारी की मां खल्लारी मंदिर और बागबाहरा के घुंचापाली चंडी मंदिर में समितियों ने नवरात्र की तैयारी पूरी कर ली है. घुंचापाली चंडी मंदिर समिति बागबाहरा के सचिव दानवीर शर्मा ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर सुरक्षा के मद्देनजर समितियों और प्रशासन ने संयुक्त बैठक की गई है जिसमें भक्तों के दर्शन, आम भंडारा, महा-आरती, मेला-मढ़ई में लोगों की होने वाली भीड़ को देखते हुए इन्हें बंद करने का फैसला लिया है. उन्होंने कहा कि मंदिर समिति ने खुद आगे बढ़कर प्रशासन का साथ दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *