Sunday, September 20

Tag: कृषि विश्वविद्यालय ने बार्क के सहयोग से विकसित की धान की दो नवीन म्यूटेंट किस्में  सफरी-17 से विक्रम टी.सी.आर. और जवाफूल से सी.जी. ट्राॅम्बे जवाफूल विकसित

कृषि विश्वविद्यालय ने बार्क के सहयोग से विकसित की धान की दो नवीन म्यूटेंट किस्में    सफरी-17 से विक्रम टी.सी.आर. और जवाफूल से सी.जी. ट्राॅम्बे जवाफूल विकसित
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

कृषि विश्वविद्यालय ने बार्क के सहयोग से विकसित की धान की दो नवीन म्यूटेंट किस्में  सफरी-17 से विक्रम टी.सी.आर. और जवाफूल से सी.जी. ट्राॅम्बे जवाफूल विकसित

  परंपरागत किस्मों की अपेक्षा बौनी, जल्द पकने वाली और अधिक उपज देने वाली हैं नवीन किस्में रायपुर, 13 जुलाई, 2020। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर द्वारा भाभा अटाॅमिक रिसर्च सेन्टर (बार्क), मुम्बई के सहयोग से धान की दो नवीन म्यूटेन्ट किस्मंे - विक्रम ट्राॅम्बे छत्तीसगढ़ राईस और छत्तीसगढ़ ट्राॅम्बे जवाफूल विकसित की गई हैं। ये नवीन म्यूटेन्ट किस्में छत्तीसगढ़ की परंपरागत किस्मों क्रमशः सफरी-17 और जवाफूल में उत्परिवर्तन के द्वारा सुधार कर विकसित की गई हैं। नवीन किस्में परंपरागत किस्मों की अपेक्षा बौनी, शीघ्र पकने वाली और अधिक उपज देने वाली हैं। विक्रम टी.सी.आर. किस्म परंपरागत सफरी-17 की तुलना में 30-35 दिन पहले पक कर तैयार हो जाती है और 21 प्रतिशत अधिक उत्पादन देती है। इसी प्रकार सी.जी. जवाफूल ट्राॅम्बे किस्म परंपरागत जवाफूल की तुलना में 10-15 दिन पहले पक कर तैयार हो जाती है और 40 प्र...