Tag: कोरोना वायरस : कफ़न खसोट कारपोरेट और उनके कबरबिज्जू चाकर

कोरोना वायरस : कफ़न खसोट कारपोरेट और उनके कबरबिज्जू चाकर
लेख-आलेख

कोरोना वायरस : कफ़न खसोट कारपोरेट और उनके कबरबिज्जू चाकर

  लेखक बादल सरोज पाक्षिक अख़बार लोकजतन के संपादक और अ. भा. किसान सभा के संयुक्त सचिव  कोरोना वायरस को महामारी दर्जा दिया जा चुका है। पूरी दुनिया इसके प्रकोप या उसकी आशंका से लगभग कांप रही हैं। मगर कुछ हैं, जिन्हे इसमें भी कमाई के अवसर और मुनाफ़ों के पहाड़ नजर आ रहे हैं। हमारे देश में मास्क और हाथधुलाऊ तरल - सेनेटाइजर - दस से बीस गुनी कीमत पर बेचे जाने की खबरें आम हो गयी हैं। मौत से डराकर की जा रही यह कमाई किसी भी तरह व्यापार या धंधे की परिधि में नहीं आती, तब भी इसकी आड़ में बाकी जो हो रहा है उसकी तुलना में ये बहुत मामूली-सी चिंदीचोरी है। हालांकि ऐसा करने वालों के प्रोफाइल की एकरूपता विडंबना उजागर करती हैं ; ये वे ही हैं, जो सुबह से शाम तक राष्ट्रवाद के तमगे बाँटते हैं और मुसीबत पड़ने पर राष्ट्रवासियों की जेब काटते हैं। बहरहाल दोष इनका नहीं, उस सांचे का है, जिसने इन्हें इस तरह ढाला। ...