Thursday, September 24

Tag: विश्व मे आंतक का अंत काम सूत्र में छुपा है इसका रहस्य

विश्व मे आंतक का अंत काम सूत्र में छुपा है इसका रहस्य
खास खबर, देश-विदेश, लेख-आलेख

विश्व मे आंतक का अंत काम सूत्र में छुपा है इसका रहस्य

लेखक संदीप तिवारी राज,         संपादक  दैनिक भारत भास्कर          कामसूत्र भारत में लगभग 300 भाषा में लिखी गयी...उस समय ये किताब लिखी गयी थी प्रेम और कामवासना को समझने के लिए...कामसूत्र में सिर्फ बीस प्रतिशत ही भाव भंगिमा कि बातें हैं बाक़ी अस्सी प्रतिशत शुद्ध प्रेम है...प्रेम के स्वरुप का वर्णन है...वात्सायन जानते थे कि बिना काम और प्रेम को समझे आत्मिक उंचाईयों को समझा ही नहीं जा सकता है कभी...ये आज भी दुनिया में सबसे अधिक पढ़ी जाने वाली किताबों में से एक है...!! भारत किसलिए अलग था अन्य देशों से ? संभवतः इसीलिए...क्यूंकि भारत जिस मानसिक खुलेपन की बात उस समय कर रहा था वो शायद ही किसी सभ्यता ने की थी...मगर धीरे-धीरे विदेशी प्रभावों से यहाँ की मानसिकता दूषित हो गयी...खजुराहो के मंदिर इस्लाम के आने के कुछ ही सौ साल बाद बने...ये बताता है कि उस वक़्त तक यहाँ अपनी संस्कृति और समझ को स्वीकार करने ...