अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं है CAA, विपक्ष ने देश को किया गुमराह: अमित शाह

नई दिल्ली। देश में CAA को लेकर चल रहे विवाद के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ा बयान दिया है। गृह मंत्री ने प्रदर्शन में हुए हिंसा को लेकर कहा कि हमें अपेक्षा नहीं थी कि विपक्ष देश को इतना गुमराह करेगा। गलतफहमी फैलाई गई कि सीएए से देश के अल्पसंख्यकों की नागरिकता चली जाएगी। लेकिन विपक्ष नागरिकता संशोधन कानून को पढ़कर बता दे कि इसमें कहां पर किसी भी नागरिकता लेने का प्रावधान है। NRC को लेकर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिल्ली की रैली में दिए गए बयान पर शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने भी ये कहा है अभी NRC नहीं आ रहा है और मैं भी कह रहा हूं कि अभी NRC की चर्चा ही नहीं है, अभी नहीं आ रहा है, अभी आंदोलन क्यों हो रहे हैं? अभी केवल CAA आया है।
शाह ने आगे कहा कि CAA में हमने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में रह रहे सारे अल्पसंख्यकों को शामिल किया है। वहां के बहुसंख्यकों को इसमें शामिल नहीं किया गया है। फिर किसी के साथ भेदभाव का सवाल ही नहीं। ये बात केवल मैंने ही नहीं बल्कि महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, राजेंद्र प्रसाद, आचार्य कृपलानी, मौलाना आजाद सबने बार बार कही है और नेहरू-लियाकत समझौता भी यही कहता है।
2019 के राज्यों के चुनाव परिणाम पर पूछे सवाल पर शाह ने कहा कि महाराष्ट्र और हरियाणा में नतीजें हमारे पक्ष में रहे। हां, झारखंड में हम जरूर हार गए। इस पर हम आत्मचिंतन करेंगे। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में भाजपा को अपने साथी के साथ पूर्ण बहुमत था, लेकिन विचारधारा को तोड़कर, कांग्रेस ने शिवसेना के साथ सरकार बनाई, तो मीडिया कांग्रेस से सवाल क्यों नहीं पूछता, सिर्फ भाजपा से सवाल क्यों पूछा जाता है?
NPR के सवाल पर जवाब देते हुए शाह ने कहा कि जनगणना हर 10 साल के बाद होती है, इस बार भी 10 साल के बाद होगी, पहले 2011 में हुई थी इसबार 2021 में होनी है। NPR भी 10 साल पहले हुआ था, अब फिर होना है। ये कोई नयी बात नहीं है, कांग्रेस ने बार बार किया है और यही कांग्रेस आज हमसे सवाल पूछ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *