एस्ट्रो-वास्तु रिसर्च सोसायटी का ज्योतिष वास्तु सम्मेलन प्रारम्भ

  • रायपुर:-* एस्ट्रो-वास्तु रिसर्च सोसायटी छत्तीसगढ़ रायपुर के तत्वावधान में,छत्तीसगढ़ स्तरीय एक दिवसीय ज्योतिष एवं वास्तु सम्मेलन वेदिकमंत्रोच्चार, मंगलाचरण,स्वस्तिवाचन एवं सरस्वती वंदना के साथ प्रातः 10 बजे प्रारम्भ हुआ। समारोह की अध्यक्षता डॉ अनन्तधर शर्मा,मुख्यातिथि डॉ सत्यविश्वास,विशिष्ट अतिथि सर्वश्री इंजीCP शर्मा, आचार्य डॉ कीर्तिभूषण पाण्डेय,डॉ गीता शर्मा,श्री SR मूर्ति एव इंजी AKवर्मा थे। समारोह का सफल संचालन कार्यक्रम के संयोजक महासचिव वास्तुशास्त्री पँ देवनारायण शर्मा एवं मनमोहन अग्रवाल ने किया। ज्योतिषी पँ विनीत शर्मा ने अतिथियों का परिचय कराया। समस्त अतिथियों का स्वागत अभिनन्दन नियोगी जेम्स के प्रमित नियोगी,नीलू शर्मा,सायली शर्मा,अजय सुता तथा ओमियो चटर्जी ने किया।N
    सर्वप्रथम उपस्थित अतिथियों ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। आचार्य डॉ कीर्तिभूषण पाण्डेय एवं पँ विनीत शर्मा द्वारा,वैदिक मंत्रोच्चारण,स्वस्तिवाचन,मंगलाचरण,एवं मां सरस्वती की वंदना किये। स्वागत भाषण पँ देवनारायण शर्मा ने किया। कार्यक्रम की विस्तृत रूपरेखा डॉ CP शर्मा ने बताया। डॉ सत्यविश्वास ने मुख्यातिथि के रूप में बोलते हुए कहा कि,यह सम्मेलन ज्योतिष एवं वास्तुशास्त्र की प्राचीन विद्या,पर जनसेवा करने वाले ज्योतिष एवं वास्तु शास्त्रियों को समर्पित है। डॉ CP शर्मा ने ज्योतिष के गूढ़ और गम्भीर तथ्यों को बताते हुए कहा कि ज्योतिष के उन सभी आमंत्रित विद्वतजनों के प्रतिभा का भी आज इस सम्मेलन में आप लाभ उठाएं। डॉ अनन्तधर शर्मा ने कहा ज्योतिष और वास्तु हमारे देश, समाज और धर्म की रीढ़ हैं। इसके बिना हमारा देश समाज व धर्म अपूर्ण है। आचार्य डॉ कीर्तिभूषण पाण्डेय ने कहा वास्तु और ज्योतिष वेदों के ज्ञान चक्षु हैं। भटके हुए लोगों को ज्ञान और सही मार्ग दिखाते हैं। आने वाले कल के सभी शुभ-अशुभ घटनाओं का बोध कराते हैं। सतर्क कराते हैं। डॉ गीता शर्मा ने कहा पञ्चाङ्ग वास्तव में हमारे जीवन के खाता बही हैं। जो हमारे अच्छे या बुरे कर्मों का तथा अवधि का हमें हिसाब किताब बताते हैं। वरिष्ठ ज्योतिष श्री महेंद्र ठाकुर,उषा साहू तथा पँ ब्रह्मदत्त शर्मा ने भी ज्योतिष पर अपने सारगर्भित उदबोधन दिए।
    अन्य उपस्थित अनेक गणमान्य ज्योतिषी विनीत शर्मा, वत्सला शर्मा,मंजुला शुक्ला,रत्ना देवी शर्मा,शीनम झुनझुनवाला, चंद्रा पाण्डेय,अरुणेश शास्त्री,इंजी RS पाण्डेय,कमलेश पाण्डेय, प्रमित नियोगी,मनमोहन अग्रवाल, संदीप आहूजा, शिवनारायण मूंदड़ा,प्रणव तिवारी,डॉ नागेश्वर राव,डॉ JP दुबे,गुरप्रीत मांन,राधेश्याम पाण्डेय,RK शर्मा,AK वर्मा,असीम शर्मा,राम चटर्जी,आचार्य सरोज द्विवेदी,राजेश ताम्रकार,अरुण चौबे तेजस्वी शर्मा,YSN मूर्ति,विजयनाथ,नन्दलाल चौधरी,देवव्रत शर्मा,VK भट्ट,PD स्वर्णकार,किरण अग्रवाल , कृष्णकुमार रामटेके,देवेंद्र द्विवेदी,AK शुक्ला,आनन्द शुक्ला,AK दुबे,सन्ध्या दुबे,आसुतोष गोस्वामी,रविकांत, RK शर्मा,राजेन्द्र नत्थानी ,AK सिंह,आदि के अलावा अन्य सैंकड़ो विद्वानों ने अपने अपने शोधपूर्ण तथ्य और पक्ष रखा। उन्होंने उपस्थित जिज्ञासुओं के प्रश्नों के उत्तर भी दिए अंत मे श्री मनमोहन अग्रवाल व पँ देवनारायण शर्मा ने आभार प्रदर्शन किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *