झारखंड: 13 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, 14 फरवरी को बीजेपी में होगा पार्टी का विलय

रांची। झारखंड के पहले मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी 13 साल बाद 14 फरवरी को फिर से भारतीय जनता पार्टी में शामिल होंगे। 13 साल पहले उन्होंने बीजेपी से नाता तोड़कर अपनी नई पार्टी बना ली थी। 14 फरवरी को रांची में आयोजित एक कार्यक्रम में वे बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व की मौजूदगी में पार्टी का दामन थामेंगे। बीजेपी और जेवीएम के नेताओं ने इस बात की पुष्टि कर दी है। बताया जा रहा है कि कार्यक्रम में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहेंगे। हालांकि इस मामले पर अभी भी कोई नेता ऑन रिकॉर्ड बोलने को तैयार नहीं है।
झारखंड बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल शहदेव ने कहा, ‘बाबूलाल जी एक बड़े नेता हैं उनकी पार्टी के विलय के संबंध में कोई भी फैसला पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व ही करेगा। अभी तक राज्य बीजेपी को इस बारे में कोई सूचना नहीं है। इस मामले पर फैसला होने के बाद मीडिया को सूचित किया जाएगा।’
झारखंड के पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी आरएसएस के पूर्व नेता हैं। 2006 में बीजेपी से अलग होकर उन्होंने नई पार्टी बना ली थी। हालांकि उनकी पार्टी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा और लगातार गिरता गया। 2009, 2014 और 2019 के झारखंड विधानसभा चुनाव में पार्टी को 11, आठ और तीन सीटों पर ही जीत मिली।
2019 झारखंड विधानसभा चुनाव के बाद से ही राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा थी कि मरांडी की पार्टी का बीजेपी में विलय होने वाला है। हाल के महीनों में हुई राजनीतिक गतिविधियों से इन कयासों को बल भी मिला। हाल ही मरांडी ने पार्टी की कार्यकारिणी को भी भंग कर दिया था। उन्होंने कहा था कि इसे नए सिरे से बनाने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *