Thursday, July 18

डेंगू एवं चिकुनगुनिया वेक्टर जनित रोग,रोकथाम के लिए सतर्कता जरूरी

जगदलपुर । डेंगू एवं चिकुनगुनिया एक वेक्टर जनित रोग है। संक्रमित मादा एडिज मच्छर काटने से स्वस्थ्य व्यक्ति के शरीर में संक्रमण होता है। मादा एडिज मच्छर डेंगू एवं चिकुनगुनिया वायरस का वाहक है। जो कि घर में तथा घर के आसपास जमा हुआ साफ पानी में पनपता है। यह मच्छर दिन में काटती है। संक्रमित एडिज मच्छर के अण्डे भी संक्रमित होते हैं। पानी के संपर्क में आने पर यह अण्डा विकसित होकर मच्छर बन सकते हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा संक्रमण काल को दृष्टिगत रखते हुए डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव सम्बन्धी एहतियात बरतने की सलाह नागरिकों को दी गई है।

 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जगदलपुर द्वारा डेंगू रोकथाम सम्बन्धी जानकारी में उक्त सलाह देते हुए बताया है कि घर सहित कार्यालय,दुकान में उपयोग हो रहे कूलर को प्रति सप्ताह अवश्य सफाई करें। कूलर के अंदर के पानी को कपड़े में निचोड़ कर कूलर को सुखाकर दुबारा उपयोग में लाया जावे। पुराने डिब्बे, टायर, टूटे गमले, टूटे प्लास्टिक, कबाड़ आदि सहित निर्माण स्थल जिसमें बरसात का पानी रूक सकता है उसे कतई खुले में ना रखें। पानी की टंकी ढक्कन को ठीक प्रकार से लगायें। पशु-पक्षी के पानी पिलाये जाने वाले बर्तन को नियमित साफ कर साफ पानी भरा जावे। गमले, फिज की ट्रे, एयर कंडीशनर से निकलते पानी, मनीप्लांट व फन्गसुई के पौधा आदि का पानी सप्ताह में एक बार अवश्य बदला जावे। अपने घरों,दफ्तरों एवं दुकानों के खिड़कियों-दरवाजे में जाली अवश्य लगायें। जब भी सोयें मच्छरदानी के अंदर ही सोयें। डेंगू मच्छर हमेशा दिन के समय काटते हैं, इसलिये पूरे शरीर को ढंककर रखें। डेंगू बुखार के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत चिकित्सकीय परामर्श अवश्य लेवें एवं अधिक मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन करें। डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव और बचाव सम्बन्धी अधिक जानकारी के लिए निःशुल्क टोलफ्री नम्बर 104 एवं कंट्रोल रूम परामर्श सेवा नम्बर 07782-222281 पर सम्पर्क किया जा सकता है साथ ही नजदीकी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र,प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र,जिला अस्पताल तथा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ईलाज एवं सभी जांच सुविधाएं निःशुल्क उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *