महासमुंद प्रभारी मंत्री लखमा ने किया ‘‘गोधन न्याय योजना‘‘ का देशी अंदाज में शुभारंभ मांदर बजाकर झूम कर

किशोर कर ब्यूरोचीफ महासमुंद

मंत्री लखमा ने मांदर बजाकर किया नृत्य

महासमुंद – महासमुंद जिले में जिले के प्रभारी मंत्री कवासी लखमा की अध्यक्षता में गोधन या योजना की शुरुआत की गई। हरेली पर्व के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य में आज से गोधन न्याय योजना की शुरूआत हो गई है। महासमुंद जिले में वाणिज्यिक कर (आबकारी) एवं उद्योग तथा जिला प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने जिले में ग्राम कछारडीह गौठान पहुँच कर गाय को हरा चारा खिलाकर सरकार की महत्वपूर्ण ‘‘गोधन न्याय योजना‘‘ का जिले में शुभारंभ किया । उन्होंने खेती-किसानी से जुड़े औजारों की पूजा भी की । इसी के साथ जिले में पशुपालकों से गोबर ख़रीदी की प्रक्रिया शुरू हो गई है । प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने पारंपरिक ढोल बजा कर नृत्य भी किया ।स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा लगाए गए विभिन्न स्टाल का अवलोकन किया । इस अवसर पर अनुसूचित जनजाति विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भुनेश्वर बघेल, ज़िला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उषा पटेल सहित कलेक्टर कार्तिकेया गोयल और पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर, जिला पंचायत सीईओ रवि मित्तल भी मौजूद थे । बच्चों क ग़ेढ़ी प्रतियोगिता को हरी झंडी दिखाई ।
हरेली छत्तीसगढ़ का सबसे प्रथम त्यौहार है। कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ध्यान रखा गया ।
हरेली पर्व छत्तीसगढ़ के जन-जीवन में रचा-बसा खेती-किसानी से जुड़ा पहला त्यौहार है। इसमें अच्छी फसल की कामना के साथ खेती-किसानी से जुड़े औजारों की पूजा की जाती है और भरण पोषण के लिए आभार व्यक्त किया जाता है।
छत्तीसगढ़ की महत्वकांक्षी योजना नरवा, गरूआ, घुरवा और बाड़ी के अंतर्गत गोधन न्याय योजना के तहत की शुरूआत हो गई है। इस योजना के तहत सरकार पशुपालकों से 2 रूपए प्रति किलो की दर से गोबर की खरीदी करने जा रही है। प्राप्त गोबर से सरकार वर्मी कंपोस्ट खाद बनाकर किसानों को उपलब्ध कराएगी। इससे किसान आर्थिक रूप से समृद्ध होंगे और जैविक कृषि को भी बढ़ावा मिलने की उम्मीद की गई है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *