Day: May 30, 2022

खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, नारायणपुर

नक्सलियों के प्रताड़ना से तंग आकर सुमित्रा पोटाई उर्फ रविला ने छोडी नक्सल संगठन*

  *शासन के सरेण्डर नीति और नारायणपुर पुलिस के कार्य से प्रभावित होकर सुमित्रा पोटाई उर्फ रविला पुलिस के सामने की सरेण्डर* नक्सलियों के प्रताड़ना से तंग आकर तथा शासन के सरेण्डर नीति और नारायणपुर पुलिस के कार्य से प्रभावित होकर उत्तर बस्तर डिवीजन टी.डी. टीम सदस्य सुमित्रा पोटाई उर्फ रविला (उम्र 25 वर्ष) ने आज दिनाँक 30.05.2022 को आईपीएस श्री पुष्कर शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (नक्सल आप्स), नारायणपुर के समक्ष सरेण्डर किया। सुमित्रा पोटाई उर्फ रविला को 2003 में निब्रा सीएनसी सदस्य टीरू मड़काम ने शादी का प्रलोभन देकर नक्सली संगठन में शामिल कराया था। परन्तु टीरू मड़काम स्वयं शीघ्र ही नक्सली संगठन छोडकर भाग गया तब सुमित्रा पोटाई उर्फ रविला भी नक्सली संगठन छोड़ना चाहती थी तब नक्सली कमाण्डर विक्रम ने वर्ष 2009 मे सुमित्रा की शादी कमलदास उसेण्डी के साथ जबरन करा दिया। सुमित्रा पोटाई उर्फ ...
सीएम भेट मुलाकात कर निकले और गजब हो गया ,भाजपा की रीति नीति और विचारधारा से प्रभावित होकर कांग्रेस छोड़ सैकड़ों ने किया पार्टी प्रवेश
कोंडागांव, खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

सीएम भेट मुलाकात कर निकले और गजब हो गया ,भाजपा की रीति नीति और विचारधारा से प्रभावित होकर कांग्रेस छोड़ सैकड़ों ने किया पार्टी प्रवेश

https://youtu.be/rA54FMcxibk   केशकाल..। भारतीय जनता पार्टी के एक दिवसीय विधानसभा स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन विकासखंड केशकाल के ग्राम बहिगाव में आयोजित हुआ । कार्यक्रम के दौरान केशकाल मंडल से 697 एवं बड़े डोंगर मंडल से 183 कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने आज भाजपा की रीति नीति और विचारधारा से प्रभावित होकर कांग्रेस पार्टी छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया ।    वही विगत कुछ समय से बी जे पी से निष्कासित चल रहे बालसिंह बघेल की भी प्रदेश अध्यक्ष की मौजूदगी मे ससम्मान पार्टी मे वापसी हुई । अपने संबोधन मे भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि प्रदेश के मुखिया आज बस्तर सहित जहां भी दौरा कर रहे है वहां उन्हें उल्टा मुह खाना पड़ रहा है । केशकाल विधानसभा के बड़ेडोंगर हो या धनोरा जहां मुख्यमंत्री पहुचे थे वहाँ के ग्रामीणों के प्रश्न का उत्तर ना होने पर उन्होंने केंद्र को जवाबदार बताया...
वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक,आज के पत्रकारिता के चल रहे दौर को देख एक पौराणिक कथा याद आ ही जाती है – कहते है नारद जी आदि पत्रकार है । अगर नारद पत्रकार थे तो भगवान विष्णु उनके स्वामी । जिनका प्रचार वो हर समय नारायण-नारायण कह कर करते थे । उन्हीं भगवान विष्णु ने एक प्रसंग वश नारद जी को एक दिन बंदर बना दिया था । यह कथा आज भी प्रासंगिक लगाती है ,तो अंत में बंदर बनने की प्रकिया में लगे तमाम नारद रूपी साथियों हिंदी पत्रकारिता दिवस की अशेष बधाईयाँ ।
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, लेख-आलेख

वरिष्ठ पत्रकार चंद्र शेखर शर्मा की बात बेबाक,आज के पत्रकारिता के चल रहे दौर को देख एक पौराणिक कथा याद आ ही जाती है – कहते है नारद जी आदि पत्रकार है । अगर नारद पत्रकार थे तो भगवान विष्णु उनके स्वामी । जिनका प्रचार वो हर समय नारायण-नारायण कह कर करते थे । उन्हीं भगवान विष्णु ने एक प्रसंग वश नारद जी को एक दिन बंदर बना दिया था । यह कथा आज भी प्रासंगिक लगाती है ,तो अंत में बंदर बनने की प्रकिया में लगे तमाम नारद रूपी साथियों हिंदी पत्रकारिता दिवस की अशेष बधाईयाँ ।

बात बेबाक चंद्र शेखर शर्मा (पत्रकार) 9425522015 हिंदी पत्रकारिता दिवस की अनंत शुभकामनाये .. 30 मई 1826 को पंडित युगुल किशोर शुक्ल ने प्रथम हिन्दी समाचार पत्र 'उदन्त मार्तण्ड' का प्रकाशन व संपादन आरम्भ किया था । जिसकी याद में हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है । हिंदी पत्रकारिता के 19 दशकों के सफ़र में आज हिंदी पत्रकारिता के नाम पर हिंदी की चिन्दी की जा रही है । पत्रकारिता जो कभी एक मिशन हुआ करती थी अब कारपोरेट घराने के प्रवेश के साथ व्यवसाय बन चुकी है । किसी ने ठीक ही कहा है कि- "पत्रकारिता कोठे पे खड़ी हो गयी हैं, इच्छाधारी इच्छाएँ जब बड़ी हो गयी हैं ।" व्यवसाय बन चुकी पत्रकारिता में पत्रकार बनने के लिए पत्रकारिता की एबीससीडी आनी जरूरी नहीं है ,बस चापलुसी करने का गुण होना और अंटी में रंगीन कागजो की थैली । अब तो कुकुरमुत्तों की तरह उगते पनपते पोर्टल व यू ट्यूबर रूपी पत्रकारिता की...
वरिष्ठ पत्रकार के शशि धरन की खरी खरी,केसकाल भेट मुलाकात ,जमीन पर बैठे जनप्रतिनिधि
कोंडागांव, खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

वरिष्ठ पत्रकार के शशि धरन की खरी खरी,केसकाल भेट मुलाकात ,जमीन पर बैठे जनप्रतिनिधि

मुख्यमंत्री जी का केशकाल धनोरा में बहुत प्रभावी और सफल यादगार आयोजन रहा। पर इस आयोजन मे बैठक व्यवस्था की बद इन्तजामी के चलते जनपद उपाध्यक्ष एवं जनपद सदस्यो सरपंचो व पंचायत प्रतिनिधियों को जमीन पर बैठना पडा-? पंचायत राज मे पंचायत पदाधिकारियों की उपेक्षा-अपमान हो यह सही नही माना जा सकता। वो तो जिला प्रशासन पुलिस प्रशासन को लाख लाख शुक्रगुज़ार होना चाहिए और धन्यवाद देना चाहिये उन भले मानुष पंचायत पदाधिकारियों का जो उपेक्षा अपमान का घूंट पीकर भी जमीन मे बैठकर जन चौपाल कार्यक्रम को शांतिपूर्ण ढंग से निपटने दिया और आयोजन को प्रभावी बनाने में योगदान दिया। फिर भी बैठक व्यवस्था न पंचायत पदाधिकारियों का ,न ही वी आई पी अतिथियों का और न जनप्रतिनिधियों एवं शासकीय अधिकारियों के बैठक की ही व्यवस्था संतोषजनक रहा।...
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश, रायपुर

राज्य में महुआ फूल (सूखा) का संग्रहण 31 मई तक मुख्यमंत्री के निर्देश पर बढ़ाई गई है संग्रहण अवधि

  रायपुर 29 मई 2022/मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर त्वरित अमल करते हुए राज्य में महुआ फूल (सूखा) का संग्रहण बढ़ाकर 31 मई तक किया जाएगा। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री श्री बघेल भेंट-मुलाकात कार्यक्रम के अंतर्गत विगत दिवस 19 मई को बीजापुर वनमंडल के ग्राम आवापल्ली में पहुंचे थे। वहां ग्रामीणों से मुलाकात के दौरान संग्राहकों ने बताया कि वर्तमान वर्ष में अधिक मात्रा में महुआ फूल का उत्पादन हुआ है।                                                      इसे ध्यान में रखते हुए वनवासियों संग्राहकों द्वारा संग्रहण अवधि को बढ़ाने की मांग रखी गई थी। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने वनवासियों के हित को ध्यान में रखते हुए मौके पर ही राज्य में महुआ फूल (सूखा) के संग्रहण अवधि को बढ़ाने के निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर शीघ्र अमल करते हुए राज्य लघु वनोपज संघ द्वारा 19 मई से ही आदेश जारी कर ...