Monday, November 28

Day: August 9, 2022

राज्य में पेसा कानून लागू होने से बढ़ेगा ग्राम सभा का अधिकार : मुख्यमंत्री बघेल
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

राज्य में पेसा कानून लागू होने से बढ़ेगा ग्राम सभा का अधिकार : मुख्यमंत्री बघेल

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि पेसा कानून पहले से अस्तित्व में था लेकिन इसके नियम नहीं बनने के कारण इसका लाभ आदिवासियों को नहीं मिल पा रहा था. मुख्यमंत्री ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में पेसा अधिनियम को लेकर नियम बन चुका है और इसके लिए आठ अगस्त को राजपत्र में प्रकाशन भी किया जा चुका है. इससे आदिवासी अपने जल-जंगल-जमीन के बारे में खुद फैसला ले सकेंगे. मुख्यमंत्री आज विज्ञान महाविद्यालय परिसर स्थित दीन दयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आयोजित सर्व आदिवासी समाज छत्तीसगढ़ के कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे. इस कार्यक्रम में राज्य भर के जनजाति समुदाय के लोग उपस्थित रहे. कार्यक्रम का शुभारंभ शहीद वीर नारायण के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ. मुख्यमंत्री ने कहा है कि आदिवासियों के हितों को संरक्षण देने के लिए राज्य में पेसा कानून लागू होने से...
बीजापुर: मुठभेड़ के बाद हथियार और विस्फोटक बरामद, एक घायल नक्सली भी पकड़ा गया
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

बीजापुर: मुठभेड़ के बाद हथियार और विस्फोटक बरामद, एक घायल नक्सली भी पकड़ा गया

बीजापुर. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में सुरक्षा बलों ने माओवादियों से मुठभेड़ के बाद हथियार, विस्फोटक और अन्य सामान बरामद किया है तथा एक घायल नक्सली को पकड़ा है. पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जिले के मोदकपाल थाना क्षेत्र में बोंगला-पंगुर गांव के जंगलों में सुरक्षार्किमयों और माओवादियों के बीच मुठभेड़ के बाद सुरक्षा बलों ने भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद किया और एक घायल नक्सली को पकड़ा. उन्होंने बताया कि जंगलों में माओवादियों की की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद छह अगस्त को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, एसटीएफ और डीआरजी के संयुक्त दल को गस्त में रवाना किया गया था. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा बल के जवान सात अगस्त को बोंगला-पंगुर गांव के जंगल में थे तब माओवादियों ने उनपर गोलीबारी शुरू कर दी. इसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी...
हमारी सरकार ने आदिवासियों की संस्कृति को सहेजने और संरक्षित करने का कार्य किया: भूपेश बघेल
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

हमारी सरकार ने आदिवासियों की संस्कृति को सहेजने और संरक्षित करने का कार्य किया: भूपेश बघेल

रायपुर.सामुदायिक वन अधिकार मान्यता पत्र, विशेष पिछड़ी जनजाति के युवाओं को नियुक्ति पत्र वितरितहमारी सरकार ने आदिवासियों की संस्कृति को सहेजने और संरक्षित करने का कार्य किया है. छत्तीसगढ़ में सरकार बनने के साथ ही हमने आदिवासियों के सशक्तिकरण के लिए कार्य किए. आदिवासी हितों के लिए ऐसे कार्य किए गए जो राज्य बनने के बीस वर्षाें में नहीं हुए. हमारी सरकार ने पेसा कानून को पूरी तरह क्रियान्वित करने के लिए नियम बनाए और यह खुशी की बात है कि 08 अगस्त को इसका प्रकाशन छत्तीसढ़ राजपत्र में भी हो गया है. उक्त बातें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कही. विभिन्न जिले इस कार्यक्रम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े. मुख्यमंत्री ने सम्बोधित करते हुए सबसे पहले विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं दी. उन्होंने कार्यक्...
छत्तीसगढ़ के नए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बने अरुण साव…
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

छत्तीसगढ़ के नए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बने अरुण साव…

नयी दिल्ली/रायपुर. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को बिलासपुर के सांसद अरुण साव को पार्टी की छत्तीसगढ़ इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया. पार्टी की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई. अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में यह सांगठनिक फेरबदल किया है. साव, विष्णुदेव साय का स्थान लेंगे. वह 53 वर्ष के हैं और पहली बार 2019 का लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बने थे. साव ने छात्र जीवन से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी. वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) से जुड़े हुए थे. रायपुर में भाजपा नेता नरेश गुप्ता ने बताया कि राज्य के मुंगेली जिले में 25 नवंबर 1968 को जन्मे साव का परिवार आरएसएस से जुड़ा रहा है तथा वह स्वयं उसके कार्यकर्ता रहे हैं. गुप्ता ने बताया कि पेशे से अधिवक्ता साव पूर्व मुख्यमंत्री रमन...
बलौदाबाजार: कार मालगाड़ी से टकराई, तीन की मौत, तीन घायल
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

बलौदाबाजार: कार मालगाड़ी से टकराई, तीन की मौत, तीन घायल

बलौदाबाजार. छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार जिले में मानव रहित रेलवे फाटक को पार करते समय एक कार के मालगाड़ी की चपेट में आ जाने से दो महिलाओं समेत तीन यात्रियों की मौत हो गई है तथा तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि जिले के सुहेला थानाक्षेत्र में सोमवार रात को रेललाइन पार करते समय एक कार मालगाड़ी से टकरा गई जिससे ईश्वरी देवांगन (45), बाबूलाल देवांगन (65) और मंजू देवांगन (27) की मौत हो गई है. उन्होंने बताया कि पुलिस को जानकारी मिली है कि बलौदी गांव के देवांगन परिवार के आठ सदस्य कार से बलौदाबाजार से हिरमी जा रहे थे और जब यह कार रेलवे पटरी पार कर रही थी तब वह मालगाड़ी की चपेट में आ गयी. पुलिस के अनुसार इस घटना में ईश्वरी और बाबूलाल की घटनास्थल पर ही मौत हो गई तथा चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से शवों और घा...
धमतरी: प्रदेश में मूसलाधार बारिश के चलते गंगरेल बांध का गेट खोले गए…
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

धमतरी: प्रदेश में मूसलाधार बारिश के चलते गंगरेल बांध का गेट खोले गए…

धमतरी: भारी बारिश के कारण गंगरेल बांध में भी पानी की बम्पर आवक हो रही है। बांध 91.37 प्रतिशत भर चुका है। लगातार हो रही बारिश के चलते बांध में 9 हजार 290 क्यूसेक पानी की आवक हो रही है। कैचमेंट एरिया में अच्छी बारिश के कारण आवक और बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। लबालब भरने के बाद बांध से 7 हजार 196 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा। बांध के 4 गेट खोल दिए गए हैं। वही जगदलपुर के इंद्रावती नदी उफान पर होने के कारण चारां तरफ पानी ही पानी है। भारी बारिश के चलते भीषण बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। दर्जनों घर पानी में डूब चुका है। गणपति रिसोर्ट में भी बाढ़ का पानी भर गया है, जिसके चलते रिसोर्ट को खाली कराया गया। आपदा टीम मौके पर पहुंचकर बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित जगह पर ले जा रहे हैं। बंगाल की खाड़ी में आए चक्रवात का सबसे ज्यादा असर बीजापुर जिले में दिख रहा है। पिछले तीन दिनों से जिले में मूसलाधार बारिश के ...
आदि विद्रोह में स्वतंत्रता संग्राम के आदिवासी जननायकों की भूमिका का किया गया है वर्णन: मुख्यमंत्री
खास खबर, छत्तीसगढ़ प्रदेश

आदि विद्रोह में स्वतंत्रता संग्राम के आदिवासी जननायकों की भूमिका का किया गया है वर्णन: मुख्यमंत्री

छत्तीसगढ़ के आदिमजाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान द्वारा भारतीय स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम की श्रृंखला में एवं विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आदिमजाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान द्वारा आदिवासी जनजीवन से संबद्ध विभिन्न आयामों को अभिलेखीकृत करने का कार्य किया गया है, संस्थान द्वारा 44 पुस्तकें प्रकाशित की गई है। आदिमजाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान द्वारा जल-जंगल-जमीन शोषण, उत्पीड़न से रक्षा एवं भारतीय स्वतंत्रता के लिए समय-समय पर आदिवासियों द्वारा किये गये विद्रोहों एवं देश की स्वतंत्रता हेतु विभिन्न आंदोलनों में अग्रणी भूमिका निभाने वाली वीर आदिवासी जननायकों की शौर्य गाथा को प्रदर्शित करने आदि विद्रोह छत्तीसगढ़ के आदिवासी विद्रोह एवं स्वतंत्रता संग्राम के आदिवासी जननायक पुस्तिका तैयार की गयी है। इस पुस्तक में 1774 के हलबा विद्रोह से लेकर 1...