मसीही समाज का 40 दिवस उपवास प्रारंभ ,भस्म बुधवार ,जीवन का नवीनीकरण करे – बिशप

रायपुर। मसीहीजनों का 40 दिनी उपवासकाल बुधवार से प्रारंभ हो गया। भस्म बुधवार पर उपदेश देते हुए छत्तीसगढ़ डायोसिस के बिशप रॉबर्ट अली ने कहा कि उपवासकाल का वक्त जीवन को नए सिरे से आंकने का समय है। आर प्रभु की नजदीकी में जाएं। अपने जीवन का नवीनीकरण करें।. प्रार्थना करें। ईश्वर से अपनी बीमारी व बुरी आदतों को त्यागने आत्मकि व शारीरिक शक्ति मांगें। यदि को उपवास नहीं कर सकता तो वह संय बरते। त्याग करे। जो पेशेंट हैं वे त्याग व संयम से का उपवास कर सकते हैं। बिशप ने बाइबल से योएल व जक्कई का उदाहरण देते हुए कहा कि उनकी तरह पश्चाताप करें। ताकि प्रभु आपके पापों को क्षमा करें।   क्योंकि प्रभु अनुग्रहकारी, दयालु, विलंब से क्ोध करने वाला, अति करूणा निधान व दुख देकर पछताने वाला है। उसकी ईच्छाओं को जानने व समझने का प्रयास करें। वचन की गहराई को समझने की कोशिश करें। प्रार्थना व पवित्रशास्त्र के द्वारा सपरिवार संगति करें।
ऐश वेडनेस-डे के मौके पर चर्चों में विशेष आराधनाएं हुई। इसके बाद प्रतिदिन संध्या घरों में प्रार्थना सभाएं होंगी। उपवासकाल में चर्चों या समाज में किसी भी तरह के समारोह, विवाह या अन्य कार्यक्रम नहीं होंगे। सेंट पॉल्स कैथेड्रल में अर्धना का संचालन पादरी अजय मार्टिन ने किया। इसी तरह कैथोलिक चर्च में आर्च बिशप विक्टर हैनरी ठाकुर स्पेशल वरशिप संपन्न कराई। घरेलू आराधनाओं के कार्यक्रम व वक्ता-संचालक तय कर दिए गए हैं। उनकी वर्कशाप भी बिशप व डायसिसन सचिव पादरी अतुल आर्थर व पादरी शमशेर सामुएल, अब्राहम दास आदि ले चुके हैं। संयोजक मनशीश केजू, समीर तिमोथी, इस्माइल समीह, दीपक राज पीटर, राजेश लिविंग्स्टन राजा मसीह को जिम्मेदारी मिली है। राजधानी में सेंट मैथ्यूस चर्च, सीएनआई चर्च जोरा, सीएनआई चर्च नवा रायपुर खड़ंवा, ग्रेस चर्च, सेंट मेरीस चर्च टाटीबंध, भनपुरी कैथोलिक चर्च, मेनोनाइट चर्च, सेंट टेरेसा चर्च अमलीडीह, मारथोमा चर्च, चर्च आफ गाड, रायपुर क्रिश्चयन चर्च समेत करीब 40 गिरजाघरों में भी उपवासकाल धार्मिक परंपरा के साथ संपन्न हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *