Sunday, July 21

अजय चंद्राकर, अमर अग्रवाल, रेणुकासिंग, संतोष पाण्डे, भोजराज और मोतीराम नवाजे जाएंगे नये साफ छवि वाले यूं मंत्री पद के लिये कई नाम वरिष्ठ पत्रकार जवाहर नागदेव की खरी… खरी…

हर रात यही सोचते-सोचते बेचैनी के साथ कटती रही दक्षिण के दावेदारों की कि कब मोहन भैया इस्तीफा देंगे और कब अपना रास्ता खुलेगा।

एक-एक दिन भारी पड़ता रहा। सिर्फ तब ही नहीं बल्कि अब बृजमोहन अग्रवाल के इस्तीफे के बाद तो ये भारीपन और ये बेचैनी और अधिक बढ़ गयी है। क्यांेकि अब वो वक्त आ गया है जब प्रदेश में नये विधायक और मंत्री बनाए जाएंगे।

रायपुर लोकसभा के लिये चुने जाने के कारण पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने रायपुर दक्षिण की विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया हैै। तो ऐसे मे उनके स्थान पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीद बांधे बैठे हैं।

जाने किसका भाग्य प्रबल है, जाने किसका राजयोग काम कर लेगा।
देर सिर्फ टिकट मिलने की है, छत्तीसगढ़ में भाजपा की लहर कायम है और फिर यहां से जीतने के लिये तो बृजमोहन अग्रवाल का नाम ही काफी है। सारा प्रदेश जानता है जिसके सर पर बृजमोहन का हाथ होगा वो कभी चुनाव हारेगा नहीं।
उन्हें अविजित योद्धा कहा जाता है। जब जिसे चाहा उसे जिताया।
साथ ही जब जिसे चाहा जीतने भी नहीं दिया।

प्रदेश के कई वरिष्ठ और युवा नेता इस सीट पर टकटकी लगाए बैठे हैं। बृजमोहन अग्रवाल के काॅलेज के दिनों के कई विश्वसनीय साथी दक्षिण से विधायक बनने की महात्वाकांक्षा पाले बैठे हैं।

कई विधायकों का टाॅरगेट है मंत्री पद

मंत्री की बात करें तो भाजपा के निकटस्थ और जानकार लोग अपने-अपने तर्क सहित कुछ नाम बताते हंै। प्रदेश के बहुत से सीनियर विधायक बृजमोहन के स्थान पर मंत्री बनने की लालसा भी पाले बैठे हैं।

कुछ जानकारों को अजय चंद्राकर, अमर अग्रवाल, रेणुका सिंग के मंत्री बनने की संभावना नजर आ रही है।

चर्चा ये भी है कि श्यामबिहारी जायसवाल और अरूण साव को लोकसभा में कमजोर प्रदर्शन के कारण पद छोड़ना पड़ सकता है। यदि प्रदर्शन को पैमाना माना जाए तो रायपुर ग्रामीण से विधायक मोतीराम साहू का नाम पाॅजिटिव वे में भी लिया जा सकता है। उनका प्रदर्शन अच्छा रहा।

इसी तरह पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को हराकर संतोष पाण्डे ने राजनांदगांव सीट पर झण्डे गाड़कर अपना नाम रेस में लिखवा दिया है। कांकेर से भोजराज नाग का नाम भी लिया जा रहा है।

चुनाव की मुहिम में भिड़े नेताओं को ये चेतावनी पहले ही दे दी गयी थी कि चुनाव में प्रदर्शन के आधार पर पद दिये जाएंगे। जाहिर है लोकसभा में अपनी सफलता दिखाने वाले पुरस्कृत किये जाएंगे।

इसी तरह अनुभवी अमर अग्रवाल को मंत्री बनाकर इस समुदाय को भी साधा जा सकता है। मंत्री पद की इस दौड़ में दबंग छवि के नेता अजय चंद्राकर को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

सारे धुरंधरों की इस प्रतिस्पद्र्धा में भाग्य बहुत बड़ा फैक्टर है। जिसका भाग्य जोर मारेगा वो मोदी-शाह की नजर में अपने आप आ जाएगा। यूं भी देश की राजनीति में विशेषतौर पर भाजपा की राजनीति में अचंभित करने वाले फैसले लिये जा रहे हैं।

साफ छवि वालो
को प्राथमिकता

लेकिन ये तय है कि भविष्य अच्छे लोगों का और काम करने वालों का भविष्य उज्जवल है। ईमानदार छवि वाले नेता भविष्य में नवाजे जाएंगे। हवा-हवाई और लफ्फाज नेताओं के दिन लद गये। जनता भी परिवर्तन पसंद कर रही है।

मोदी-शाह इस परिवर्तन के बड़े पैरोकार हैं।
—————————-
जवाहर नागदेव, वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, चिन्तक, विश्लेषक
मोबा. 9522170700
‘बिना छेड़छाड़ के लेख का प्रकाशन किया जा सकता है’
—————————-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *