(विधानसभा) रेत व्यवसायी द्वारा भाजपा विधायक अजय चंद्राकर को जान से मारने की धमकी देने का मामला सदन में गूंजा

0-गृहमंत्री ने कहा-आरोपी को हिरासत में लेकर कार्रवाई की जा रही है
रायपुर। शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज विपक्षी दल भाजपा के विधायक अजय चंद्राकर को एक रेत व्यवसायी द्वारा फोन पर जान से मारने की धमकी देने का मामला भाजपा सदस्यों ने जोरशोर से उठाया। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने इस मामले में कहा कि आरोपी को पुलिस द्वारा हिरासत में ले लिया गया और आगे की कार्रवाई की जा रही है।
प्रश्रकाल शुरू होते ही आज भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने अपने दल के विधायक अजय चंद्राकर को कल रात में फोन पर एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा जान से मारने की धमकी देने का मामला उठाया। जिस पर संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि इस मामले में जो भी बातें है उन्हें गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू प्रश्रकाल के बाद सदन में रखेंगे।
गृहमंत्री श्री साहू ने अपने वक्तव्य में कहा कि श्री चंद्राकर का कल रात में अज्ञात व्यक्ति द्वारा अभद्र व्यवहार करने और जान से मारने की धमकी देने की मिली जानकारी के तत्काल बाद इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए गए, जिसके बाद आरोपी फोन धारक का मोबाईल नंबर ट्रेस कर उसका पता लगाया गया । आरोपी नाम जसपाल सिंह रंधावा जिला दुर्ग का रहने वाला है और जो रेत व्यवसायी है। गृहमंत्री ने बताया कि जसपाल सिंह का रेत का व्यवसाय बंद करा दिया गया है, जिससे वो परेशान था। जसपाल सिंह ने अपनी समस्या की जानकारी जब गांव के कुछ लोगों को दी तो गांव वालों ने विधायक के निज सचिव का मोबाइल नंबर देकर उनसे बातचीत करने की सलाह दी। जसप्रीत सिंह ने बातचीत के दौरान विधायक से अभद्र व्यवहार व धमकी दी गई। श्री साहू ने बताया कि आरोपी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया गया है और उसके खिलाफ आगे की कार्रवाई की जा रही है।
गृहमंत्री के वक्तव्य के बाद नेताप्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि अब तक बिहार और उत्तरप्रदेश में रेत माफियाओं द्वारा इस तरह की घटना होते ही सुना था लेकिन अब बिहार और उप्र की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी रेत माफियाओं का मनोबल बढ़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि जिस दिशा में प्रदेश जा रहा है वह काफी चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि आज हम सदन में रेत माफियाओं का मुद्दा उठाने वाले थे और ठीक एक दिन पहले रात में रेत माफिया द्वारा विधायक को धमकाया जाता है। आखिर एक रेत माफिया की इतनी हिम्मत कैसे हो गई। उसे किसका संरक्षण प्राप्त है, जिससे उसका मनोबल बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सहित सरकार को इस बारे में सोचने की आवश्यकता है। श्री कौशिक ने इस मामले की सम्पूर्ण जांच की मांग की।
भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने कहा कि गृहमंत्री जी ने जो रेत खदानों को बंद कराने का जिक्र अपने वक्तव्य में किया है वे सभी खदाने मेरे विधानसभा क्षेत्र में नहीं आते है और आरोपी रेत व्यवसायी दुर्ग जिले का रहने वाला है। फिर उसने मुझे धमकी क्यों दी। उन्होंने कहा कि इस मामले में कार्रवाई होनी चाहिए।
भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि इससे गंभीर मामला दूसरा नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि इतने गंभीर मामले में गृहमंत्री जी अपने वक्तव्य में यह कहते है कि श्री चंद्राकर कहेंगे तो आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होगी। उन्होंने कहा कि यह कहने की आवश्यकता नहीं है। इस मामले की बातें सदन में आ चुकी है और इस पर कार्रवाई होनी चाहिए।
जनता कांगे्रस छत्तीसगढ़ जे के विधायक अजीत जोगी ने भी कहा कि यह मामला बहुत गंभीर है और चूंकि श्री चंद्राकर ने फोन पर इस मामले की पूरी जानकारी डीजीपी को दे चुके है इसलिए अलग से एफआईआर दर्ज कराने की जरूरत नहीं है। फोन पर कहीं बातों को ही एफआईआर माना जाए और आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
भाजपा विधायक एवं पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने भी कहा कि विधानसभा का सत्र चल रहा है और ऐसे समय में किसी जनप्रतिनिधि को जान से मारने की धमकी देना बहुत गंभीर मामला है। इस पर कार्रवाई होनी चाहिए।
गृहमंत्री श्री साहू ने कहा कि मैंने पहले ही कहा है कि इस मामले में आरोपी को हिरासत में ले लिया गया है और उसके खिलाफ आगे की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *