बडी खबर , जिला आबकारी अधिकारी और उनकी टीम पर महिलाओं से मारपीट करने और आलमारी से लाखों की रकम निकाल लेने का लगा आरोप

किशोर कर ब्यूरोचीफ महासमुद

सिंघोडा थाने में की गई शिकायत

महासमुंद- महासमुंद जिले के सरायपाली ब्लॉक में आबकारी विभाग द्वारा की गई अवैध शराब की एक कार्यवाही पर सवाल खड़े हो गए हैं दरअसल जिस व्यक्ति के खिलाफ अवैध शराब रखने का मामला दर्ज किया गया है उक्त व्यक्ति ने घर में शराब होने की बात से पूरी तरह से इनकार कर दिया है और आबकारी विभाग के अधिकारियों पर ही आरोप लगाया है कि जबरिया मारपीट कर मामला बनाने के उद्देश्य से उसे आबकारी ऑफिस सरायपाली घर से उठाकर ले आया गया और सरायपाली आकर उसके खिलाफ 27 लीटर शराब जप्त होने का मामला दर्ज कर लिया गया है। आबकारी विभाग के अफसरों पर यह भी आरोप लगा है कि घर में मारपीट कर घर में रखे हुए 3 लाख 86 हजार की रकम भी आबकारी विभाग के अफसरों की कार्यवाही के बाद घर से गायब है। इस आशय की शिकायत सिंघोड़ा थाना में भी की गई है। मामले में आरोपी बनाए गए व्यक्ति के द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद आबकारी विभाग के अफसरों द्वारा की गई छापामार कार्यवाही संदिग्ध प्रतीत हो रही है, और पूरा मामला ही उच्च स्तरीय जांच का विषय बन गया है।
मामले को लेकर मिली जानकारी के अनुसार सरायपाली ब्लॉक के उड़ीसा सीमा के निकट स्थित ग्राम चिवराकुटा में जिला आबकारी अधिकारी दिलीप वासनीकर के नेतृत्व में स्थानीय आबकारी उप निरीक्षक कुलदीप शर्मा के साथ आबकारी विभाग की टीम ने एक छापामार की कार्यवाही की जिसमें कथित आरोपी मोहन गुप्ता के घर से 27 लीटर शराब जप्त होने का मामला दर्ज किया गया है और आबकारी अधिनियम की धारा 34 (2) के तहत प्रकरण भी बनाया गया है । लेकिन आबकारी विभाग के जिला अधिकारी के नेतृत्व में की गई यह कार्यवाही उस वक्त संदेह के दायरे में और जांच का विषय बन गया जब कथित आरोपी द्वारा यह बात मीडिया के सामने कही गई की उसके घर से किसी तरह का कोई शराब बरामद नहीं हुआ था और ना ही घर में किसी तरह की कोई पंचनामा की कार्यवाही की गई आबकारी विभाग के अफसरों ने मारपीट करते हुए जबरदस्ती उसे सरायपाली आबकारी कार्यालय ले आए जहां मामला बनाया गया। मामले को लेकर स्थानीय आबकारी अधिकारी कुलदीप शर्मा ने एक बयान में बताया कि जिला आबकारी अधिकारी के नेतृत्व में चिवराकुटा में छापामार कार्यवाही करने गये थे और शराब जप्त कर प्रकरण बनाया गया है उन्होंने ग्राम चिवराकुटा में शराब छापामार की कार्यवाही के बाद पंचनामा की बात पूछे जाने पर कहा कि लिखापढी की जा रही है।
इधर इस घटना के बाद चिवराकुटा में इंडेन गैस एजेंसी चलाने वाले आकाश गुप्ता ने सिंघोड़ा थाना में एक शिकायत दर्ज कराया है जिसमें उसके द्वारा बताया गया है कि जिला आबकारी अधिकारी दिनकर  वासनीक और स्थानीय आबकारी अधिकारी कुलदीप शर्मा के नेतृत्व में 20- 25 लोगों की टीम उनके घर में घुस आए और महिलाओं को भी मारपीट करते हुए मोबाइल छिन लिए . इस बीच गैस एजेंसी और दुकान का अलमारी में रखा हुआ रकम तीन लाख 86 हजार रुपए भी निकाल लिया गया। आबकारी विभाग की गई इस कार्रवाई में शामिल अफसरों के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर सिंघोडा थाना में आकाश गुप्ता के द्वारा शिकायतपत्र सौंपी गई है। अब देखने वाली बात होगी कि सिंघोड़ा पुलिस इस मामले मे किस तरह से जांच करती है और किन-किन पर कार्यवाही करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *