बालोद

संत जुटे ऑनलाइन, शराब पीए बिना जनता रह सकतीहै 45दिन लेकिन सरकार शराब बेचे बिना नही रह सकती है,साधु संतों ने किया जोरदार विरोध
छत्तीसगढ़ प्रदेश, दुर्ग, धमतरी, बालोद, महासमुंद, रायपुर

संत जुटे ऑनलाइन, शराब पीए बिना जनता रह सकतीहै 45दिन लेकिन सरकार शराब बेचे बिना नही रह सकती है,साधु संतों ने किया जोरदार विरोध

बालयोगेश्वर संत श्री राम बालक दास जी एवं छत्तीसगढ़ प्रदेश संत महासभा के प्रदेश अध्यक्ष स्वामी राजेश्वरानंद के सानिध्य में* पाटेश्वर धाम जिला बालोद छत्तीसगढ़ द्वारा लॉक डाउन के इस विपरीत परिस्थिति में भी प्रतिदिन व्हाट्सएप के माध्यम से ऑनलाइन सत्संग परिचर्चा श्री सीता रसोई संचालन ग्रुप एवं मंडलाधिकारी पाटेश्वर धाम ग्रुप के साथ अन्य कई ग्रुपों में रोज वाट्सएप के माध्यम से आयोजित किया जा रहा है आज आज सुबह 10:00 से 11:00 बजे सीता रसोई ग्रुप में परिचर्चा का आयोजन किया गया जिस ग्रुप में पाटेश्वर सेवा संस्थान के संचालक रामबालक दास जी ने छत्तीसगढ़ में कोरोना महामारी के काल में भी शराब की दुकानों को प्रदेश सरकार द्वारा खोले जाने का घोर विरोध करते हुए निंदा प्रस्ताव रखा पाटेश्वर सेवा संस्थान के द्वारा रखे गए इस निंदा प्रस्ताव के ऊपर आज बहुत से लोगों ने अपने विचार रखे बाबा राम बालक दास जी ने कहा क...
शराब दुकान खोलने पर माकपा ने पूछा — भूपेश सरकार की प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना
कवर्धा, कांकेर, कोंडागांव, कोरबा, कोरिया, खास खबर, गरियाबंद, छत्तीसगढ़ प्रदेश, जगदलपुर, जशपुर, जांजगीर – चाम्पा, दंतेवाड़ा, दुर्ग, धमतरी, नारायणपुर, बलरामपुर, बलोदा बाज़ार, बालोद, बिलासपुर, बेमेतरा, महासमुंद, मुंगेली, राजनांदगांव, रायगढ़, रायपुर, सरगुजा-अंबिकापुर

शराब दुकान खोलने पर माकपा ने पूछा — भूपेश सरकार की प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना

  *मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी* ने कोरोना महामारी के मद्देनजर लॉक डाऊन के दौरान शराब दुकानें खोले जाने के राज्य सरकार के फैसले की तीखी निंदा की है और पूछा है कि सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि उसकी प्राथमिकता क्या है : कोरोना या मोरोना? पार्टी ने कहा है कि आम जनता की जिंदगी की कीमत पर मुनाफा कमाने की सरकार को इजाजत नहीं दी जा सकती। आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिव मंडल ने कहा है कि लॉक डाऊन के दौरान प्रदेश की 80% आबादी के सामने आजीविका बर्बाद होने के कारण रोजी-रोटी की समस्या आ खड़ी हुई है। अभी तक सरकार ने दो माह के मुफ्त अनाज की घोषणा के अलावा आम जनता को राहत देने के कोई भी कदम नहीं उठाए हैं। मुफ्त राशन वितरण में भी आदिवासी अंचलों में भारी गड़बड़ियां होने की शिकायतें सामने आ रही है। लॉक डाऊन के दौरान सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर तबकों और बेसहारा लोगों के लिए भोजन की व...