मसीही सगठनों ने धार्मिक स्थल में श्रद्धालुओ की संख्या बढ़ाने की मांग की है,कोरोना काल मे गाइड लाइन का चर्च ने सख्ती से पालन कर अपने सारे कार्यक्रम आयोजन ऑनलाइन किया था

धार्मिक स्थल में व्यक्तियों की संख्या बढ़ाने की मांग
रायपुर। रायपुर जिले में धार्मिक स्थल खोलने का ऐलान होने के बाद मसीही समाज ने इसमें संशोधन की मांग की है। पास्टर आशीष गार्डिया, साजू थॉमस, जॉन राजेश पॉल, बसंत तिर्की ने धर्मस्थलों की क्षमता के अनुसार 25 फीसदी उपस्थिति की अनुमति देने का आग्रह किया है। चर्चों में सामूहिक आराधना होती है। छत्तीसगढ़ डायसिस सीएनआई, रायपुर आर्च कैथोलिक डायसिस, कैपिटल पास्टर्स फैलोशिप, पास्टर्स एंड लीडर्स एसोसिएशन, अखिल भारतीय ईसाई समुदाय अधिकार संगठन, छत्तीसगढ़ क्रिश्चियन एसोसिएशन ने शासन ने इस पर विचार करने का आग्रह किया है। संगठनों ने धर्मस्थलों को खुलवाने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और अल्पसंख्यक के अध्यक्ष महेंद्र छाबड़ा को धन्यवाद दिया।
धर्मगुरुओं ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि अब धार्मिक संस्थानों में पूजा पाठ हो सकेंगे। यहां से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े लोगों का जीवन यापन हो सकेगा। लंबे समय से धर्मस्थलों में ताले की वजह से आर्थिक स्थिति चरमरा गई है। कई धर्मस्थलों के पास तो बिजली का बिल भी भरने लायक रकम नहीं बची थी। नियमित खर्चों व पुराहितों के वेतन को लेकर भी परेशानियां थीं। अनेक कठिनाई से जूझना पड़ रहा है।पूर्व की तरह धर्मस्थलों में शैड्यूल तय कर नमाज, पूजा व आराधनाएं तय करने पर विचार किया जा रहा है। ताकि शासन की गाइड-लाइनों का पालन हो सके और भक्तजन भी वंचित न हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *