Tuesday, July 16

बरसात में आकाशीय बिजली व सर्पदंश से बचने सावधानियां बरतने के सीएमएचओ ने की अपील

धमतरी 04 जुलाई 2024/ बरसात में आकाशीय बिजली और सर्पदंश से बचाव के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. यू.एल.कौशिक ने सावधानियां बरतने की अपील की है। उन्होंने बताया कि बारिश के मौसम में आकाशीय बिजली गिरने की घटना अधिक होती है। इससे लोगों के साथ ही पशु-पक्षियों की भी मौत हो जाती है, यहां तक कि पेड़ भी झुलस जाते हैं। इसके लिए क्या करें और क्या नहीं करें की जानकारी भी सीएमएचओ ने दिया।
क्या करें-
तत्काल पानी, बिजली के तार, खम्भों, हरे पेड़ों और मोबाईल टावर आदि से दूर हट जाएं, बच्चों को बिजली के उपकरण से दूर रखें, आसमान के नीचे है तो अपने हाथों को कानों पर रख लें ताकि बिजली की आवास से कान के परदे ना फट जाएं, अपनी दोनों एड़ियों को जोड़कर जमीन पर उकड़ू बैठ जाएं, छतरी या सरिया जैसी कोई चीज है तो अपने से दूर रखें, ऐसी चीजों से बिजली के गिरने की आशंका सबसे ज्यादा होती है। पराली आदि के ढेर से दूर रहें, नही ंतो इसमें आग लग सकती है। बिजली से चलने वाले यंत्रों व उपकरणों को तत्काल बंद करें, मछूवारे मौसम के पूर्वानुमान के बाद ही तालाब, झिरीया नदी नाले में जाएं।
क्या ना करें-
बिजली चमकने के दौरान अगर एक से ज्यादा लोग हों तो एक दूसरे से दूरी बनाए रखें, एक दूसरे का हाथ बिल्कुल नहीं पकड़ें, खाली पैर पानी का नल नहीं छुएं, दोपहिया वाहन सायकल, ट्रक, नौका, खुले वाहन आदि में सवार होकर खुल जगह पर भ्रमण न करें, कपड़े सुखाने के लिए तार का प्रयोग ना कर जूट या रस्सियों का प्रयोग करें। खिड़कियों, दरवाजे और बरामदे में भी नहीं जाएं, मोबाईल चार्ज या किसी अन्य उपकरण को प्लग करने के साथ उसका इस्तेमाल बिल्कुल ना करें तथा खुले मैदान में, जहां कोई पेड़ या ऊंची रचना हो, वहां खड़े रहने की गल्ती ना करें।
डॉ. कौशिक ने बरसात के मौसम में सर्पदंश के लक्षण और बचाव की जानकारी देते हुए बताया कि सांपों के काटने के स्थान पर दांतों के निशान काफी हल्के होते हैं, दंश स्थान पर तीव्र जलन, पलकों का गिरना, अनैच्छिक मल-मूत्र त्याग, मिचली आना, किसी वस्तु का दो दिखलाई देना, अंतिम अवस्था में चेतनाहीनता तथा मांसपेंशियों में ऐंठन, दंश जगह पर तीव्र पीड़ा, खुजलाहट, हाथ-पैरों में झनझनाहट, चक्कर आना, दम घुटना इत्यादि लक्षण हैं। बचाव के बारे में बताया कि कुएं या गड्ढे में अनजाने में हाथ नहीं डालें, बरसात मे ंअंधेरे में नंगे पांव न घूमें, जूते को झड़ाकर पहनें, सांप को पकड़ने या छेड़ने की कोशि नहीं करें, घरों में गोबर के कंडों के ढेर, पैरा, लकड़ीं का गठ्ठे से इस्तेमाल करते समय सावधानी बरतें।
सर्पदंश में क्या करें-
धीमी गति से रक्त का बहाव और विष का फैलाव धीमा करने के लिए रोगी को दिलासा दें, काटे हुए शरीर के अंग को स्थिर रखकर पट्टी का उपयोग करें, पीड़ित व्यक्ति को लेटे हुए स्थिति में रखकर तत्काल अस्पताल ले जाएं, काटे हुए छोर से अंगंठियां, कंगन, जूते या अन्य दबाव वाले वस्तु को निकाले तथा तत्काल 108 संजीवनी एक्सप्रेस को कॉल करें या नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में इलाज कराएं।
सर्पदंश में क्या ना करें-
किसी भी बंधन या संपीडन पट्टी को ना लगाएं, काटे गए स्थान पर ज्यादा कसकर न बांधें, जहर को निकालने के चूसना या चीरा देना इत्यादि ना करें, रोगी को मादक पदार्थ या एस्प्रीन न दें, पीड़ित व्यक्ति को चलने ना दें, काटने की जगह पर बर्फ लगाकर इसे ठंडा ना करें तथा बैगा-गुनिया के चक्कर मे ंना फंसकर झाड़-फूंक न कराएं। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श टोल फ्री नंबर 104 पर डायल कर स्वास्थ्य संबंधी सभी जानकारी ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *