Tuesday, July 16

मेडिकल कॉलेज कांकेर का कलेक्टर ने किया निरीक्षण, सुनीं स्टाफ की समस्याएं

ग्राम तेलगरा स्थित प्रस्तावित कॉलेज का किया मौका मुआयना

कांकेर। कलेक्टर नीलेश महादेव क्षीरसागर ने आज मेडिकल कॉलेज में जाकर पूरे परिसर का निरीक्षण किया और वहां मौजूद स्टाफ से चर्चा कर उनकी विभिन्न मांगों व समस्याओं से वे रू-ब-रू हुए। इस दौरान कलेक्टर ने ग्राम तेलगरा के समीप प्रस्तावित कॉलेज हेतु आबंटित भूमि का मौके पर मुआयना कर अधिकारियों को आवश्यक दिशानिर्देश दिए।

आज दोपहर 12 बजे कलेक्टर श्री क्षीरसागर ग्राम नंदनमारा के छोटेपारा में स्थित शासकीय चिकित्सा शिक्षा महाविद्यालय पहुंचे, जहां पर उन्होंने परिसर में स्थित क्लास रूम, प्रयोगशाला, टेक्निकल इंस्ट्रुमेंट्स कक्ष सहित विभिन्न कमरों का निरीक्षण किया तथा सभी जरूरी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश संस्था के अधिष्ठाता को दिए। इस दौरान उन्होंने मेडिकल इक्विपमेंट्स सहित अन्य तकनीकी उपकरणों का समुचित ढंग से रखरखाव और आवश्यक सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए भी निर्देशित किया। इसके बाद कलेक्टर ने वहां के सभाकक्ष में बैठक ली तथा अधिकारियों व स्टाफ की विभिन्न मांगों व समस्याओं की जानकारी ली। उन्होंने अलग-अलग आवश्यकताओं के अनुरूप पृथक् आबंटन हेतु प्रस्ताव तैयार करने तथा चिकित्सा शिक्षा संचालनालय में पत्राचार करने के निर्देश संस्था के डीन और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अविनाश खरे को दिए। साथ ही छात्रावासों में रहने वाले विद्यार्थियों की सुरक्षा हेतु आवश्यक इंतजाम करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। विशेष तौर पर कन्या छात्रावासों की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक बेहतर बनाने सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से चौबीसों घण्टे निगरानी करने के लिए कलेक्टर ने निर्देश दिए। इसके अलावा प्रशासनिक एवं अकादमिक रिक्त पदों की पूर्ति, स्टाफ हेतु शासकीय आवास, शुद्ध पेयजल के लिए आरओ की व्यवस्था, साफ-सफाई, विद्युत आदि के लिए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की उपलब्धता जैसी विभिन्न मांगों से कलेक्टर को अवगत कराया जिस पर उन्होंने कार्ययोजना तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश सीएमएचओ को दिए। इस अवसर पर डीएफओ श्री आलोक बाजपेयी सहित मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर पर स्टाफ मौजूद थे।

इसके उपरांत रायपुर रोड पर स्थित ग्राम तेलगरा के समीप प्रस्तावित चिकित्सा शिक्ष़्ा के लिए आरक्षित भूमि का निरीक्षण कर इसके निर्माण में आने वाले भूखण्ड को अधिग्रहण करने से पूर्व भूमिस्वामी को उचित क्षतिपूर्ति राशि देने तथा किसानों से मिलकर परस्पर समन्वय स्थापित करने के निर्देश एसडीएम चारामा को दिए। इसके पश्चात् उन्होंने जिला चिकित्सालय के लिए नवीन स्थल का प्रस्ताव करने के संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को स्थल का चयन करते हुए एवं आवश्यक कार्यवाही करने के लिए भी निर्देशित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *