कोरोना वायरस से ज्यादा खतरनाक कम्यूनल वायरस – रिजवी

 

Ekabal ahmad rizvi

 

रायपुर।  08/10/2020। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख, मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष, पूर्व उपमहापौर तथा वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने देश में जंगल की आग की तरह फ़ैल रहे कोरोना वायरस के प्रति चिंता व्यत करते हुए कहा है कि यह वायरस सम्पूर्ण जगत के लिए चलेंज बन गया है। इससे बचने के लिए शासन-प्रशासन द्वारा निर्देशित नियमों एवं एहतियात का पालन करने हम सभी को कटिबद्ध रहना उचित एवं आवश्यक है। कोरोना वायरस छन्न से आया है वैसे ही उल्टे पांव छनान से चला भी जाऐगा । इस दरमियान हर तरह की निर्देशित सतर्कता बरतना अति आवश्यक है ।
रिजवी ने देशवासियों को आगाह करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस से कहीं ज्यादा नुकसानदेह कम्यूनल वायरस सोच है जो हमारे सेक्युलर देश में साम्प्रदायिक एवं अलगाववादी दलों एवं संगठनों द्वारा फैलाया जा रहा है । यह अमानवीय एवं अप्रजातांत्रिक सोच एवं प्रयास देश की एकता, अखंडता एवं परम्परागत सौहार्द को समाप्त करने के षडयंत्र का हिस्सा है । साम्प्रदायिक संक्रमण का खतरा देश को गृहयुद्ध एवं पुनः विभाजन की ओर ले जाने का कुत्सित प्रयास है । जिसमें षडयंत्ररत अलगाववादी तत्वों को क्षणिक लाभ तो मिल सकता है परन्तु अन्त में उन्हें निराशा एवं असफलता ही हाथ लगेगी । देशवासियों को समझना होगा कि यह अंग्रेजों की फूट डालो और राज करो की नीति के पक्षधर है । उक्त संक्रमणीय सोच को रोकने कड़े कदम उठाना तथा कानून बनाना जरूरी हो गया है । आपसी सौहार्द को भडकाकर स्वार्थ सिद्ध करने वाले देशद्रोहियों को आगे आकर भावनात्मक हिंसा फैलाने वाले जनप्रतिनिधियों को चाहे वह किसी भी दल का हो उसका निर्वाचित पद समाप्त करते हुए देशद्रोह का मुकदमा चलाया जाना चाहिए । पूरा देश आज कोरोना वायरस से जूझ रहा है ठीक उसी तरह सभी को कम्यूनल वायरस को उखाड फेंकना देशवासियों का प्रथम एवं नैतिक दायित्व है । कम्यूनल वायरस की सोच भी एक असाध्य रोग बनता जा रहा है । इस घटिया सोच पर फुलस्टाप लगाना जरूरी है क्योंकि भारत जैसे सेक्युलर देश के लिए यह एक अभिशाप का रूप धारण कर रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *