सुरेश्वरमहादेवपीठ में कोरोना महामारी नाश के लिए 2 अप्रैल से अनवरत जारी अनुष्ठान का रामनवमी में समापन

20 अप्रैल 2021 को सुरेश्वर महादेव मंदिर सेल टैक्स कॉलोनी मोड़ शंकर नगर  में 2 अप्रैल 2021 को प्रारंभ हुए कोविड- 19 महामारी के नाश के लिए 11 आचार्यों के द्वारा प्रतिदिन दोपहर 11:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक अनुष्ठान किया जा रहा था उस अनुष्ठान में 11000 आहुति प्रतिदिन का हवन किया जा रहा है उसी हवन की पूर्णाहुति दिनांक 21 अप्रैल 2021 को रामनवमी के पावन पर्व पर प्रातः 10:00 बजे की जाएगी इस हवन से कोविड-19 जैसे महामारी का विनाश होगा राज्य की जनता इस महामारी से निजात पाएगी ऐसा संकल्प लेकर सुरेश्वर महादेव पीठ के स्वामी राजेश्वरानंद जी ने इस जप तप अनुष्ठान हवन का कार्य प्रारंभ कर देश की जनता के भलाई के लिए यह अनुष्ठान किया है इस अनुष्ठान में भगवान श्री गणेश अंबिका वरूण देवता षोडश मातृका नवाग्रह अधि देवता प्रत्याधी देवता क्षेत्रपाल देवता 64 योगिनी शिव पंचायत सर्वतो भद्र मंडल के देवता द्वादश लिंग तो भद्रमंडल के देवता गौरीयादि तिलक मंडल के देवता मां दुर्गा भवानी श्री राम दरबार हनुमत देवता एवं सुरेश्वर महादेव के नाम से जंप जैसे महामृत्युंजय मंत्र दुर्गा सप्तशती के पाठ का हवन वाल्मीकि कृत मूल रामायण के पाठ का हवन मां बगलामुखी देवी के मंत्रों का हवन किया जा रहा था हवन की प्रमाणिकता पर फ्रांस के टेरे नामक वैज्ञानिक ने शोध कर यह निष्कर्ष निकाला की हवन के द्वारा ना सिर्फ मनुष्य बल्कि वनस्पति एवं फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया का विनाश होता है जिसमें फसलों में रासायनिक खाद का प्रयोग कम हो सकता है पुराणों के अनुसार वातावरण शुद्ध व अन्य बीमारी आने से रुकती है इस अवसर पर आचार्य राम कृष्ण त्रिपाठी नागेश शर्मा उमाकांत मिश्रा किशोर महानंद नंदकिशोर अग्रवाल घनश्याम अग्रवाल संजय अग्रवाल मंदिर के अध्यक्ष श्री मनोज कुमार अग्रवाल उर्फ मोनू पंडित ओम प्रकाश शर्मा पंडित कामता प्रसाद त्रिपाठी पंडित बुद्धि विलास आचार्य शशि पांडे इन सभी की पूर्ण सहभागिता रही साथ ही समाचार पत्रों के द्वारा एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के द्वारा भी बताया जा रहा है कि विगत 2 दिनों से छत्तीसगढ़ में कोरोना के मरीज कम हो रही है जिसे जानकर हमें बड़ी प्रसन्नता है हम यह चाहते हैं कि पूरे विश्व से इस महामारी का नाश हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *