दंतेवाड़ा ,ग्रामीणों की जागरूकता से बची अजगर की जान सर्पमित्र टीम ने अब तक 500 से भी ज्यादा सांपों को सुरक्षित जंगल में छोड़ा

 

संजीव दास- दंतेवाड़ा

सोमवार पालनार फूलपाड़ से लगभग दस किलोमीटर दूर ग्रामीण के मकान के सामने बड़ा अजगर देखा गया।देखते ही देखते पूरे गांव वाले इकट्ठे हो गए और इसकी सूचना वन विभाग के कर्मचारियों को दिया गया। बचेली रेंजर अशोक सोनवानी नें सूचना मिलते ही तत्काल बचेली के सर्प मित्र स्नैंक कैचर अमित मिश्रा से सम्पर्क किया।अजगर बड़ा आकार का था एवं भारी भरकम होने की वजह से अमित मिश्रा अपने सहयोगी दीपक ठाकुर को लेकर तुंरत निकल पड़े।कड़ी मशक्कत के बाद अजगर को बचाकर बचेली वन विभाग कार्यालय लाया गया। जांच करने के बाद अजगर को सुरक्षित घने जंगल में छोड़ दिया गया। स्नैक कैचर अमित मिश्रा एवं दीपक ठाकुर ने बताया की बचाया गया यह भारतीय पहाड़ी अजगर लगभग आठ वर्ष का व्यस्क नर हैं। इसका वजन 24.5 किलो हैं और ये पुर्णतया स्वस्थ हैं जागरूक ग्रामीणों द्वारा सूचना देना अच्छी पहल हैं। पहले जानकारी के अभाव में ग्रामीण इन्हें मार दिया करता था। पर्यावरण के लिए अजगर की भूमिका महत्वपूर्ण हैं और लगातार सिकुड़ते जंगलों की वजह से इनकी संख्या काफी कम हो गई हैं।रेस्क्यू टीम में मनोज कुमार किरंदुल, मनोज कश्यप दीपक ठाकुर अक्षय मिश्रा दंतेवाड़ा , एवं अमित मिश्रा बचेली नगर में कार्यरत हैं। इस समूह के द्वारा नवंबर से अब तक 550 विभिन्न प्रजातियों के सर्पो को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया हैं। तथा सर्पो के प्रति भ्रांतियों को दूर करने जानकारियां भी दी जाती है।रेंजर अशोक सोनवानी नें कहां की सर्पो एवं अन्य पशुओं के आवासीय स्थानों पर दिखने से उन्हें नुकसान पहुंचाए बिना वन विभाग को सूचित करें ताकी हम उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहूंचाकर प्रर्यावरण के सहयोगी बन सकें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *