Friday, July 12

मिनिस्ट्री ऑफ जल शक्ति भारत सरकार के वेबीनार में धमतरी जिले को मिला स्थान

मिशन डायरेक्टर सुश्री अर्चना वर्मा ने जिले के कार्यों को सराहा
जल जगार की पहल को जनसामान्य ने अपनाया-कलेक्टर सुश्री नम्रता गांधी
वेबीनार को जिले की 370 ग्राम पंचायतों सहित 06 नगरीय निकायों के लोगों ने उत्साहपूर्वक देखा

धमतरी 28 जून 2024/ देश की राजधानी नई दिल्ली से मिशन डायरेक्टर, नेशनल वाटर मिशन, मिनिस्ट्री ऑफ जल शक्ति, भारत सरकार सुश्री अर्चना वर्मा ने वेबीनार के माध्यम से जल संरक्षण की दिशा में सराहनीय कार्य करने वाले देश के तीन आईएएस अधिकारियों से चर्चा की और उनके कार्यों के बारे में बारी-बारी से जानकारी ली। इनमें छत्तीसगढ़ से धमतरी जिला का भी चयन वेबीनार के लिए किया गया। जिले का प्रतिनिधित्व करते हुए कलेक्टर सुश्री नम्रता गांधी ने जिले में जल संरक्षण व संवर्धन के कार्यों की विस्तृत जानकारी दी। मिशन डायरेक्टर सुश्री अर्चना वर्मा ने जिले में जल संरक्षण की दिशा में किए जा रहे प्रयासों को सराहा और इस कार्य को सतत् रूप से संचालित करने की बात कही। एनआईसी कक्ष में आयोजित इस वेबीनार में सीईओ जिला पंचायत सुश्री रोमा श्रीवास्तव, नगरनिगम आयुक्त श्री विनय पोयाम, डीआईओ श्री उपेन्द्र चंदेल सहित अन्य उपस्थित रहे। वहीं जिले की 370 ग्राम पंचायत और 06 नगरीय निकायों से बड़ी संख्या में लोग उत्साहपूर्वक वेबीनार को देखा।

जिला प्रशासन द्वारा जल संरक्षण एवं संवर्धन की दिशा में किए जा रहे कार्य
वेबीनार में कलेक्टर सुश्री नम्रता गांधी ने बताया कि जिले में भू-जल स्तर में हो रही लगातार गिरावट को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन द्वारा जल संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य किये गये। इन कार्यों को जिलेवासियों ने जल जगार उत्सव के रूप में सहर्ष अपनाया भी है। इसके साथ ही जिला स्तरीय अधिकारियों और निजी हास्पीटल, रेस्टोरेंट के संचालकों की कार्यशाला, रैली, दीवार लेखन, रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, रूफ टाप स्ट्रक्चर, बोर वाटर रिचार्ज सिस्टम और वेस्ट वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, पीकु की सीरीज, नुक्कड़ नाटर, साथी संस्था, जल जगार उत्सव, जल प्रहरी वाटर हीरो श्री नीरज वानखेड़े द्वारा जल सरंक्षण एवं विभिन्न स्ट्रक्चर का निर्माण, परसतराई में किसानों द्वारा अपनाये गये फसल चक्र, पुराने वृक्षों को रक्षासूत्र, बेटियों के नाम पर वृक्षारोपण, गांव की बहू बेटियां को उपहार स्वरूप पौधा प्रदान करना, संदर्भ केन्द्र मटियाबहारा, पीपरहीभर्री में कमारों द्वारा निर्मित किये गये तालाब, डबरी, डाईक, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में जल स्त्रोतां की साफ-सफाई, जिला मुख्यालय के तालाबों एवं नालियों की सफाई हेतु एनआईटी टीम द्वारा सर्वे, अमृत सरोवरों की सफाई, जिले में स्थित उद्योगों में जल संरक्षण एवं बनाये गये स्ट्रक्चर और लगाये गये वाटर फ्लो मीटर, जिले की सभी सरकारी इमारतों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का निर्माण सहित अन्य कार्य शामिल है। उन्होंने कहा कि जिले के नागरिक जल संरक्षण की दिशा में स्वप्रेरित होकर आगे आ रहे हैं और जल संरक्षण की दिशा में लगातार कार्य कर रहे हैं। इस अवसर पर कलेक्टर ने भविष्य में धमतरी जिले में जल संरक्षण की दिशा में किए जाने वाले कार्यों की पॉवर प्वाईंट प्रजेंटेशन के जरिए प्रस्तुति दी।

वेबीनार में विभिन्न वर्ग हुए शामिल –
भारत सरकार द्वारा आयोजित इस वेबीनार को देखने जिलेवासियां में खासा उत्साह देखने को मिला।  जिले के 370 ग्राम पंचायतों, सहित 06 नगरीय निकायों, साथी संस्था के सदस्यां, आंगनबाड़ी केन्द्रों, ग्राम पंचायतों, आजीविका महाविद्यालयों में प्रशिक्षण प्राप्त करने आयी महिलाओं, ग्रीन आर्मी की दीदियों, स्कूली विद्यार्थियों, स्व सहायता समूह की महिलाएं, बुजुर्ग, गणमान्य नागरिक, वनांचल क्षेत्र नगरी विकासखंड के लोग, अधिकारी, कर्मचारियों ने बड़े ही उत्साह के साथ इस पूरे संवाद को देखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *