परमात्मा इस सृष्टि का रिमोट कंट्रोल अपने हाथ में लिया है और तुम अपने कर्मों के फल से वैसे ही जगहों पर चले जाते हो सद्गुरु स्वामी कृष्णा नंद महाराज

रायपुर । नवनिर्मित सतगुरु धाम आश्रम तुलसी बारा डेरा रायपुर में प्रथम बार सद्गुरु स्वामी कृष्णानंद जी महाराज का सद्भाव आगमन हुआ है आज कार्यक्रम के दौरान गुरुदेव ने कहा

मेरे प्रिय आत्मन जब आप किसी से घृणा करते हो गाली देते हो या किसी के प्रति बुरा सोचते हो तो उसका बुरा हो या ना हो पर आपमें बुरे हार्मोन का स्राव होने लगता है जो आप में रोग पैदा करता है। आपकी ऊर्जा घटने लगती है और आप स्वत: रोगी होने लगते हैं। वह रोगी हो या ना हो पर आप रोगी होने लगोगे आप की तरंगे ऐसे निकलने लगेगी कि आप से लोग घृणा करने लगेंगे । आपका शरीर जब छूटेगा वह नकारात्मक तरंगे लेकर जाएगा उसी के अनुसार वह उस लोक में चला जाएगा जिसे आप नर्क लोक कहते हो।

ना कोई ले जाने वाला है ना कोई आपको पकड़ने वाला है । यह ऐसा है जैसे अभी रॉकेट चलता है । राकेट में कोई आदमी बैठा नहीं होता है उसमें ऐसी प्रणाली स्थापित कर दी जाती है कि वह सीधे अपने गंतव्य स्थल पर चला जाता है । और जाकर वहां काम करने लगता है काम करके वह सेटेलाइट के माध्यम से सूचना देने लगता है कि विश्व में कहां क्या हो रहा है ।
कोई आदमी उसमें कार्यरत नहीं है । वह केवल रिमोट से संचालित है । उसी तरह परमात्मा ने भी इस सृष्टि का रिमोट कंट्रोल अपने हाथ में लिया है और तुम अपने कर्मों के फल से वैसे ही जगहों पर चले जाते हो ।
मान लो एक साथ एक परिवार के दस व्यक्ति मरते हैं तो यह मत समझो दसों एक ही लोक में जाएंगे वह अपनी – अपनी उर्जा के अनुसार विभिन्न लोको में जाएंगे दसों ,दस लोक में भी जा सकते हैं कोई स्वर्गलोक तो कोई नर्कलोक में चूकि सबका अपना अपना व्यक्तिगत खाता है। यह मत समझो कि बाबूजी जहां जाएंगे वहां मां भी जाएगी सब अलग-अलग जाएंगे । अपने से चले जाएंगे । अपनी उर्जा से कोई तुमको अलग नहीं करेगा यह सब तुम्हारे अंदर प्रणाली स्थित है। जैसे जहाज में ब्लैक बॉक्स होता है उसी तरह से तुम्हारे अंदर भी ब्लैक बॉक्स है ।

दिव्य गुप्त विज्ञान में हम बताते हैं जो भी तुम करते हो उसमें सब सूचना आ जाएगी और ऊपर जाकर सूक्ष्म शरीर से तुम अपने कर्मों को देखोगे कब तुमने क्या किया। यहीं पर वह ब्लैक बॉक्स खुल जाएगा अपनी भावनाओं को भी दे
आज सुबह ही 8:00 बजे लगभग 125 लोगों ने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *