हमर चिरई-हमर चिन्हारी पक्षी महोत्सव शुरू प्रदेश में पहली बार हुआ आयोजन: बेमेतरा के गिधवा-परसदा जलाशय


को मिलेगी अंतराष्ट्रीय पहचान
गिधवा-परसदा जलाशय में 150 प्रजाति के देशी एवं विदेशी पक्षियों का होता है प्रवास
प्रदेश के सात स्थानों पर पक्षी महोत्सव के आयोजन के
लिए बनेगी कार्ययोजना
सलीम अली इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञों से ली जाएगी सहायता

रायपुर 31 जनवरी 2021/ देश-विदेश से आने वाले पक्षियों के लिए गिधवा-परसदा जलाशय एक बेहतरीन आश्रय स्थल के रूप में उभर रहा है। शीत ऋतु में यहां आने वाले इन प्रवासी पक्षियों के मदद्देनजर बेमेतरा जिले के इस जलाशय में पक्षी महोत्सव की शुरूआत की गई है। प्रकृति से और नजदीक जुड़ने का प्रयास है। महोत्सव में चित्रकला, फोटो प्रदर्शनी, रंगोली, पिनटैन, मैराथन और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित होंगे।
पक्षी महोत्सव प्रदेश में अपनी तरह का पहला आयोजन है। गिधवा-परसदा के दो बड़े जलाशयों में पिछले ं25 साल से विदेशी पक्षी आ रहे हैं। यूरोप-आफ्रिका महाद्वीप से भी हजारो मील समुद्र पार कर पक्षी आते हैं। यहां देशी एवं विदेशी 150 प्रजाति के पक्षियों का प्रवास होता है। सामान्य रूप से अक्टूबर से फरवरी तक उनका इस जलाशय के पास निवास रहता है। पक्षी महोत्सव के आयोजन से छत्तीसगढ़ एवं बाहर के सैलानी इसका लाभ उठा सकेंगे।वही पक्षी प्रेमियों और पक्षी विज्ञानियों के लिए भी अध्ययन और शोध का अवसर मिलेगा।
प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राकेश चतुर्वेदी ने पक्षी महोत्सव के शुभारंभ अवसर पर कहा कि पक्षी महोत्सव के आयोजन से गिधवा-परसदा जलाशय की पहचान आने वाले समय मे अन्तराष्ट्रीय मानचित्र पर स्थापित होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग द्वारा हमर चिरई-हमर चिन्हारी के अन्तर्गत आने वाले समय मे दिसम्बर माह मे प्रदेश के 07 स्थानों में पक्षी महोत्सव का आयोजन किया जाएगा, इसके लिए सलीम अली इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञों से चर्चा कर विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जायेगी।
प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री चतुर्वेदी ने कहा कि आदिकाल से मनुष्य एवं पक्षियों का सामंजस्य रहा है। वेदों मे भी पक्षियों का चित्रण किया गया है। मनुष्य प्राचीन समय से पेड़ एवं पशु पक्षियों की पूजा करते आ रहा है। उन्होंने कहा कि गिधवा-परसदा जलाशय का परिवेश और आबोहवा देशी एवं विदेशी पक्षियों के अनुकूल है, जिसके चलते यहां अक्टूबर एवं फरवरी के बीच मे पक्षी अपना डेरा डालते हैं। इन जलाशयों के आस-पास पक्षियों के लिए अच्छा भोजन मिलता है। आने वाले समय मे कोशिश होगी की हर वर्ष दिसम्बर माह के अन्त मंे पक्षी महोत्सव का आयोजन किया जाएगा।
इस अवसर पर, वन विभाग के सचिव श्री प्रेम कुमार, राज्य जैवविविधता बोर्ड के सदस्य सचिव श्री अरुण पाण्डेय, कलेक्टर बेमेतरा श्री शिव अनंत तायल, मुख्यवन संरक्षक श्रीमती संजीता गुप्ता, मुख्य वन संरक्षक दुर्ग वृत्त श्रीमती शालिनी रैना ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक श्री दिव्यांग कुमार पटेल, अपर कलेक्टर श्री संजय कुमार दीवान, एएसपी विमल कुमार बैस, एसडीओ वन बेमेतरा पुष्पलता, सरपंच ग्राम पंचायत गिधवा केशव साहू, सरपंच नगधा थानसिंह वर्मा, सरपंच परसदा राजेश साहू, सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *