IMNB EXCLUSIVE,कागजों में बन गए प्रधानमंत्री आवास योजना के मकान अधूरे आवास को सरकारी रिकॉर्ड में बता दिया गया पूर्ण सरायपाली जनपद क्षेत्र के बेलमुंडी ग्राम पंचायत का मामला

किशोर कर ब्यूरो चीफ महासमुंद

महासमुंद- ग्रामीण इलाकों में निवासरत लोगों को झुग्गी झोपड़ी से निजात दिलाने और पक्का मकान उपलब्ध कराने के उद्देश्य को लेकर केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए प्रधानमंत्री आवास योजना भ्रष्टाचार की भेंट चल रही है हितग्राहियों के लिए मकान बनने की बजाय योजना के तहत जारी राशि पंचायत के प्रतिनिधि बंदरबांट करने में जुटे हुए और हितग्राही मिट्टी के कच्चे मकानों में रहने के लिए मजबूर हो रहे हैं ऐसा ही मामला महासमुंद जिला अंतर्गत सरायपाली जनपद क्षेत्र के ग्राम पंचायत बेलमुंडी में सामने आया है जहां प्रधानमंत्री आवास योजना के दर्जनों हितग्राही आज भी आवास योजना के लाभ से वंचित हैं।
केंद्र की सत्ता में काबिज होने के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों को पक्का मकान उपलब्ध कराने के उद्देश्य को लेकर प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत की जिसके तहत करोड़ों रुपए जरूरतमंद आवास इन लोगों को आवास बनाने के लिए जारी किए गए लेकिन हितग्राहियों के खाते में जमा होने वाली राशि पंचायत के भ्रष्ट प्रतिनिधि उपयोग करने में जुट गए जिससे गरीबों को लिए बनने वाले आवाज आधे अधूरे रह गए दरअसल महासमुंद जिला अंतर्गत सरायपाली जनपद क्षेत्र के ग्राम पंचायत बेलमुंडी में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हितग्राहियों के लिए मकान बनाए जाने थे जिसके लिए हितग्राहियों के खाते में राशि जारी की गई लेकिन राशि जारी होने के बाद तत्कालीन सरपंच के द्वारा हितग्राहियों के खाते से राशि निकलवा कर आवास बनाने के नाम पर रख लिए जाने की बात निकल कर सामने आई है लेकिन हितग्राहियों की ना तो मकान पूरे गए और ना ही उन्हें पक्का मकान उपलब्ध हो पाया है नतीजा सामने आया है कि दर्जनों हितग्राहियों के मकान आज भी अधूरे पड़े हुए हैं जो पूरे नहीं हो पाए हैं लोग कच्चे मिट्टी के मकानों में रहने के लिए मजबूर हो रहे हैं बेलमुंडी के आवास योजना से वंचित हो रहे हितग्राहियों से जब चर्चा की गई तब उनका साफ तौर पर कहा था कि वह आवास योजना की राशि अपने खाते से निकालकर सरपंच ताराचंद चौधरी को दिए थे जिसके द्वारा उनका मकान बनाया जाना था लेकिन मकान आधा अधूरा छोड़ दिया जाने से तो मकान का उपयोग कर पा रहे हैं योजना का लाभ मिलता है मिट्टी के कच्चे मकानों में गुजर-बसर करने के लिए मजबूर हैं ग्राम पंचायत बेलमुंडी में आवास योजना में बरती गई भरा सही की शिकायत गांव के ग्रामीण सुभाष चौधरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी की है लेकिन आज तक न तो मामले की जांच हुई और ना ही किसी तरह हितग्राहियों को लाभ पहुंचाने कोई पहल की गई बताया जाता है कि सरपंच ताराचंद चौधरी की दबंगई के चलते ग्रामीण हितग्राही उसे कुछ भी नहीं बोल पा रहे हैं जिसके चलते उनका अधूरा आवास पूरा नहीं हो पा रहा है प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हितग्राहियों का मकान अधूरा छोड़ने की बात को लेकर सरपंच से भी हमने उसका पक्ष जानने का प्रयास किया लेकिन वह कैमरे के सामने कुछ भी कहने से बचता नजर आया गौरतलब है कि केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री आवास योजना में इस तरह के भ्रष्टाचार और लोगों को योजना का लाभ नहीं मिल पाने की वजह से योजना कागजों में सिमटती नजर आ रही है। हम आपको बता दें कि बेलमुंडी ग्राम पंचायत में दर्जनों मकान अधूरा होने के बाद भी पंचायत के प्रतिनिधियों द्वारा आवास पूर्ण होने की जानकारी शासन को दे दी गई है जिससे शासन के साथ भी धोखा किए जाने की बात निकल कर सामने आई है ग्राम पंचायत बेलमुंडी में आवास योजना की जांच कराए जाने पर और भी कई चौंकाने वाले खुलासे होने की संभावना देखी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *