Sunday, July 21

भारत में अंतर्राष्ट्रीय सह-निर्माण की अपार संभावनाएं हैं: निर्देशक डेनिएला वोल्कर

मिडफेस्ट फिल्म, ‘द कमांडेंट्स शैडो’ होलोकॉस्ट पर एक नया दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है

फिल्मों के लिए व्यावसायिक गतिविधि भी कंटेंट जितनी ही महत्वपूर्ण है: कार्यकारी निर्माता साजन राज कुरुप

कहानी और पैकेजिंग के प्रति निष्ठा किसी फिल्म को बनाती या बिगाड़ती है: सह कार्यकारी निर्माता वेंडी रॉबिंस

प्रविष्टि तिथि: 18 JUN 2024 8:15PM by PIB Delhi

फिल्म ‘द कमांडेंट्स शैडो’ की निर्देशक डेनिएला वोल्कर ने कहा कि भारत में अंतर्राष्ट्रीय सह-निर्माण की अपार संभावनाएं हैं। वे 18वें मुंबई अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा, “एक विशाल देश होने के नाते, भारत में बहुत सारे कंटेंट है। भारत आकर्षक कहानियों से भरा पड़ा है और मैं भारतीय कहानियों को वैश्विक बनते और व्यापक दर्शक वर्ग तक पहुंचते देखना पसंद करूंगी।”

‘द कमांडेंट्स शैडो’ को आज एमआईएफएफ में आधिकारिक मिड-फेस्ट फिल्म के रूप में प्रदर्शित किया गया। वोल्कर की सामयिक और मार्मिक वृत्तचित्र, रुडोल्फ होस के 87 वर्षीय बेटे हंस जुर्गन होस की कहानी है, जो पहली बार अपने पिता की भयानक विरासत का सामना कर रहा है। उनके पिता ऑशविट्ज़ के कैंप कमांडेंट थे और उन्होंने दस लाख से ज़्यादा यहूदियों की हत्या की साजिश रची थी। हंस जुर्गन होस, ऑशविट्ज़ में अपने पारिवारिक घर में एक खुशहाल बचपन का आनंद ले रहे थे, यहूदी कैदी अनीता लास्कर-वालफिश कुख्यात प्रताड़ना कैंप (कंसेंट्रेसन कैंप) में जीवित रहने की कोशिश कर रही थी। अपने बच्चों, काई होस और माया लास्कर-वालफिश के साथ, चारों नायक अपने एकदम अलग वंशानुगत बोझों का पता लगाते हैं। संवाददाता सम्मेलन में फिल्म के कार्यकारी निर्माता साजन राज कुरुप और सह कार्यकारी निर्माता वेंडी रॉबिंस भी मौजूद थे।

 

 फिल्म के लिए जुटाये गए कंटेंट के बारे में विस्तार से बताते हुए, निर्देशक, डेनिएला वोल्कर ने कहा कि फिल्म का आधार रुडोल्फ होस द्वारा मृत्युदंड दिए जाने से ठीक सात या आठ सप्ताह पहले लिखी गई पांडुलिपि थी। वे होस के शब्दों में कहती हैं, “इस पांडुलिपि को पहले कभी नहीं देखा या फिल्माया गया है। फिल्म आपको बताती है कि वास्तव में क्या हुआ था। उन्होंने आगे बताया, “फिल्म की कहानी यह बताती है कि कैसे ऑशविट्ज़ की कल्पना की गई और गैस चैंबर और हर चीज को बनाया गया, जो रुडोल्फ होस द्वारा अपने नौ साल के बेटे को लिखे पत्र के निरंतर द्वंद्व के खिलाफ था, जहां हम उन्हें एक अच्छे और प्यार करने वाले पिता के रूप में देखते हैं।“

फिल्मों के निर्माण के लिए धन जुटाने के विषय पर साजन राज कुरुप ने कहा, “दृढ़ विश्वास का कोई विकल्प नहीं है। सिनेमा एक व्यवसाय है। कंटेंट का प्रत्येक हिस्सा एक व्यवसाय है। व्यावसायिक गतिविधि भी कहानी जितनी ही महत्वपूर्ण है। फिल्म निर्माण में उद्देश्य होना चाहिए, अहंकार नहीं। दोनों के बीच बहुत बारीक रेखा होती है। फिल्म निर्माण दुनिया को नहीं बदल सकता। ऐसा करने के लिए आपको राजनीतिज्ञ बनना होगा। लेकिन आप जो कर सकते हैं, वह है ईमानदारी से कहानियां कहना। अहंकार को एजेंडा नहीं बनना चाहिए। एक फिल्म निर्माता की प्राथमिक जिम्मेदारी गुणवत्तापूर्ण कहानी सुनाना है।

भारत में वृत्तचित्र के प्रति बदलते नजरिए की ओर इशारा करते हुए, साजन राज कुरुप ने कहा कि ऑस्कर जैसे सम्मान मिलने लगे हैं और वृत्तचित्रों के बारे में पहले की धारणाओं के विपरीत बहुत सारे मनोरंजक कंटेंट बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा, “आजकल वृत्तचित्र बनाने का एक नया व्यावसायिक मॉडल है। अब यह प्रारूप अधिक स्वीकार्य है। वृतचित्र ऑनलाइन स्ट्रीमिंग दुनिया का भी हिस्सा बन रहे हैं।” उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए बहुत सारी परियोजनाएं आने वाली हैं।

(फोटो: फिल्म द कमांडेंट्स शैडो’ की निर्देशक डेनिएला वोल्कर और निर्माता साजन राज कुरुप और वेंडी रॉबिंस एमआईएफएफ 2024 के संवाददाता सम्मेलन में भाग लेते हुए)

 

वेंडी रॉबिंस ने भी फिल्मों के लिए धन प्राप्त करने में समय के महत्व पर प्रकाश डाला। “शुरू में हम डेनिएला के क्रेडिट कार्ड से पैसे खर्च कर रहे थे और डेनिएला के घर में ब्लैक आउट शीट का उपयोग करके सीक्वेंस शूट कर रहे थे। हालांकि, ऑस्कर विजेता फिल्म ‘ज़ोन ऑफ़ इंटरेस्ट’ जो उसी परिवार की काल्पनिक कहानी है, से हमारी फिल्म को विशेष ध्यान मिला। विश्व की हाल की घटनाओं ने भी इस फिल्म को और अधिक प्रासंगिक बना दिया और इस तरह वार्नर ब्रदर्स ने आखिरकार इसे खरीद लिया।” वेंडी ने भी साजन का समर्थन किया और दोहराया कि कहानी और पैकेजिंग के प्रति निष्ठा ही फिल्म को बनाती या बिगाड़ती है।

एमआईएफएफ के एक हिस्से के रूप में शुरू किए गए डॉक बाज़ार का जिक्र करते हुए, डेनिएला वोल्कर ने कहा कि कंटेंट निर्माताओं और फिल्म निर्माताओं के मिलने और सहयोग करने के लिए ऐसे अवसर होना एक बड़ी बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *