अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस केशवराम निषाद को मिला सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत् प्रोत्साहन राशि


महासमुंद 03 दिसम्बर 2020/ हौसलें बुलंद हो तो फिर जिंदगी में कुछ भी मुश्किल नहीं रह जाता। शरीर की कोई भी कमी सफलता के आड़े नहीं आती। केन्द्र एवं राज्य शासन द्वारा दिव्यांगजनों के लिए अनेक प्रकार की जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित की गई है। इनमें से राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई योजना में से एक सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत 40 प्रतिशत् या उससे अधिक दिव्यांग व्यक्ति जो छत्तीसगढ़ का मूल निवासी हो और वे संघ लोक सेवा आयोग अथवा छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की प्रतियोगी परीक्षा प्रारम्भिक और मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर उन्हें सहायता राशि प्रदान की जाती है।
अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर पिथौरा निवासी अस्थिबाधित दिव्यांग श्री केशवराम निषाद अपनी दिव्यांगता को अपने ऊपर हावी नहीं होने देते और वे अपने हौसलें पर बुलंद रहते हुए लोेक सेवा आयोग की प्रारम्भिक परीक्षा उत्तीर्ण की है। अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर उन्हें संसदीय सचिव एवं महासमुंद विधायक श्री विनोद चन्द्राकर ने 20 हजार रूपए का प्रोत्साहन राशि का चेक प्रदान किया। श्री केशवराम निषाद बतातें है कि वे एम.एस.सी. (गणित) विषय के साथ उत्तीर्ण है और वे शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पिथौरा में सहायक शिक्षक के पद पर पदस्थ हैं। उनके घर की आर्थिक स्थिति कमजोर हैं, लेकिन उनके मन में हमेशा आगे बढ़नें की ईच्छा रहती थी। इस कारण वे बच्चों को पढ़ाने के साथ-साथ छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग परीक्षा की तैयारी भी कर रहे थे। उनकी मंशा है कि वे डिप्टी कलेक्टर बनकर समाज सेवा करें। उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा सभी वर्गों के लिए जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित किए है। इनमें से दिव्यांगजन लोगों के लिए संचालित की जा रही हैं, जो काफी सराहनीय हैं। इन मिले हुए प्रोत्साहन राशि से वे विभिन्न विषयों के बेहतर प्रतियोगी किताब खरीदकर मुख्य परीक्षा की तैयारी करना चाहतें है। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाएं सभी वर्गों के लिए बेहतर होती है। दिव्यांगों को जीवन में प्रोत्साहन की जरूरत है ताकि वे और आगे बढ़ सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *