Wednesday, July 24

जशपुरनगर : जिले में बार-बार आंधी तूफान, आपूर्ति बहाली में जी-जान से जुटे और जीते विद्युतकर्मी जवान

जशपुरनगर 07 जून 2024/जशपुर जिले में बार-बार आंधी-तूफान की वजह से विद्युत व्यवस्था को बनाए रखना तथा विद्युत आपूर्ति को निरंतर जारी रखना एक चुनौती बन गई है। 5 जून को एक बार फिर तेज आंधी तूफान ने जनहित सेवाओ में महत्वपूर्ण विद्युत व्यवस्था को कुछ देर के लिए ठप्प कर दिया था। हवा के वेग से बिजली के खंभों सहित वितरण तंत्र में ब्रेक-डाउन का गहरा असर हुआ था। इस व्यवधान को दूर करने विद्युत विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने अपनी पूरी ताकत झांक डाली जिससे विषम परिस्थिति में भी विद्युत व्यवस्था बहाल हो गई।
             मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय द्वारा जनहित की सेवाओं में पूरी निष्ठा एवं तत्परता के साथ काम करने के निर्देश दिए गए हैं, जिसके परिपालन में विद्युत कंपनियों के अध्यक्ष श्री पी. दयानंद तथा प्रबंध निदेशक (पारेषण एवं वितरण) श्री राजेश कुमार शुक्ला ने मैदानी अमले को सजगता एवं तत्परता से काम करने की विशेष हिदायतें दी है। 05 जून को जशपुर जिले में तेज आंधी तूफान के कारण 33 के.व्ही. के 03 फीडर तथा 11 के.व्ही. के 24 फीडर ब्रेकडाउन हो गए थे। विद्युत विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारियों द्वारा तत्परता से फीडरां के ब्रेकडाउन को ठीक कर विद्युत व्यवस्था दुरुस्त कर दी गई। 11 के.व्ही. के 24 में से 19 फीडरों को रात में ही चालू कर दिया गया। देर रात हवा के वेग से कई जगहों पर खंभां एवं तारों पर पेड़ गिर जाने से खंभे एवं तार टूट गए, जिस कारण 05 फीडरों को रात में चालू नहीं किया जा सका। जिन्हें अगले सुबह ठीक कर विद्युत व्यवस्था का संचालन सुचारू रूप से कर दिया गया। इसी प्रकार कुनकुरी, जशपुर एवं पत्थलगांव में ट्रांसफार्मर डी.ओ. उड़ने की 24 तथा फ्यूज ऑफ कॉल की 42 शिकायतें प्राप्त हुई जिसका निराकरण कर दिया गया।
                   जशपुर जिले के कुनकुरी में बार आंधी तूफान का केन्द्र बना हुआ है, 2 जून एवं 3 जून को भी तेज आंधी तूफान और गरज चमक के साथ बारिश हुई थी, जिससे विद्युत पारेषण एवं वितरण के तंत्र खुले में रहने के कारण प्रभावित हुए थे, जिसे विद्युत अमले के द्वारा सुधार कर सुचारू रूप से पुनः संचालन कर दिया गया। मौसम के प्रभाव को देखते हुए जशपुर जिले में विद्युत व्यवस्था सुचारू रखने मुख्य अभियंता, एवं अधीक्षण अभियंता, अम्बिकापुर के द्वारा बगीचा, कुनकुरी, तपकरा, नारायणपुर एवं फरसाबहार का दौरा किया गया तथा स्थिति को देखते हुए मुख्य अभियंता, अम्बिकापुर के द्वारा 05 सहायक अभियंताओं की 04 जून से 08 जून तक अस्थाई रूप से आपात स्थिति के प्रबंधन हेतु ड्यूटी लगाई गई। मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय एवं प्रदेश के ऊर्जा सचिव तथा छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत कंपनियों के अध्यक्ष श्री पी. दयानंद द्वारा लगातार मुख्यालय स्तर पर मॉनीटरिंग की जा रही है। विद्युत कंपनी द्वारा भी जनता से अपील है कि आपदा से निपटने तथा विद्युत आपूर्ति सामान्य करने में विद्युत कर्मियों को सहयोग प्रदान करें। बिजली के करंट से जनहानि बचाने के लिए ऑटोमेटिक ट्रिपिंग की भी व्यवस्था होती है, इसलिए ऐसे समय में विद्युत उपभोक्ताओं का धैर्य ही सुधार कार्य करने वालों का संबल होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *