कांकेर किसानों को नहीं मिल रहा रासायनिक खाद,शिव सेना ने दी अल्टीमेटम कांग्रेस के किसान हितैषी होने का ढोंग

दुर्गुकोंडल,पूरे प्रदेश के साथ-साथ कांकेर जिला में भी रासायनिक खाद की भारी किल्लत हो रही है। सहकारी समितियों में सही मात्रा में खाद उपलब्ध ना होने के कारण किसान सहकारी समितियों के चक्कर लगा रहे हैं । सहकारी समिति में कभी किसानों को डीएपी मिल रहा है तो यूरिया नहीं मिल रहा है कहीं यूरिया मिल रहा है तो पोटास नहीं मिल रहा है ।जिससे किसान बड़े चिंतित हैं और परेशान हो रहे हैं ।और अधिकतर क्षेत्र में किसान अपने किसानी के पिछड़ने की आशंका से घबराए हुए हैं। किसानों की समस्याओं को देखते हुए शिवसेना द्वारा पूरे छत्तीसगढ़ राज्य में किसानों की समस्याओं को जानने उन्हें दूर करने हेतु अभियान प्रारंभ किया गया है। जिसके तहत शिवसेना कार्यकर्ता पदाधिकारी किसानों से प्रत्यक्ष भेंट कर उनकी समस्या जान रहे हैं एवं उन्हें दूर करने हेतु प्रशासन से समन्वय स्थापित कर रहे हैं। और समस्या दूर नहीं होने पर सड़क की की लड़ाई लड़ते हुए आंदोलन प्रारंभ कर रहे हैं ।इसी तारतम्य में शिवसेना द्वारा कांकेर जिला के गांव गांव में शिवसेना कार्यकर्ताओं के द्वारा किसानों की समस्याओं को जानकर उन्हें दूर करने का प्रयास किया जा रहा है ।  10 ,7 ,2021 को शिव सेना प्रदेश महासचिव चंद्रमौली मिश्रा के नेतृत्व में शिवसेना नेता ब्लाक उपाध्यक्ष अनीश नरेटी, शिवसेना नेता मोहन पुडो एवं अन्य शिवसेना कार्यकर्ताओं ने दुर्गुकोंडल ब्लाक के कोदापाखा सहकारी समिति का निरीक्षण किया एवं किसानों से भेंट किया ।जहां शिवसेना के प्रतिनिधि मंडल को किसानों ने बताया कि सहकारी समिति में खाद की भारी कमी है यूरिया और डीएपी उपलब्ध नहीं है जिससे किसानों को अत्यंत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है ।शिवसेना प्रदेश महासचिव चंद्रमौली मिश्रा ने तत्काल दूरभाष से उच्चाधिकारियों को क्षेत्र में हो रही खाद की किल्लत से अवगत कराया एवं क्षेत्र में समुचित मात्रा में खाद उपलब्ध कराने की मांग किया। शिवसेना ने प्रशासन से कहा है कि प्रशासन क्षेत्र में चल रहे खाद की समस्या को गंभीरता से लेते हुए क्षेत्र के किसानों को समुचित मात्रा में खाद उपलब्ध करावे ।अन्यथा शिवसेना कार्यकर्ता किसानों को साथ लेकर सड़क की लड़ाई लड़ने के लिए तैयार होंगे। मोहन पुडो शिवसेना दुर्गुकोंडल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *