Sunday, July 21

आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने अमृत, स्मार्ट सिटी मिशन और पीएमएवाई-यू की 9वीं वर्षगांठ पर शहरी विकास में परिवर्तनकारी उपलब्धियों का जश्न मनाया

New Delhi (IMNB). आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने आज तीन ऐतिहासिक पहलों: कायाकल्प और शहरी परिवर्तन के लिए अटल मिशन (अमृत), स्मार्ट सिटीज मिशन और प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी (पीएमएवाई-यू) की 9वीं वर्षगांठ मनाई। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 25 जून, 2015 को शुरू की गई इन पहलों ने सामूहिक रूप से शहरी बुनियादी ढांचे की कायाकल्‍प कर दी है और पूरे भारत में लाखों निवासियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार किया है।

 

आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी अमृतपीएमएवाई-यू और स्मार्ट सिटी मिशन की प्रगति के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए

इस अवसर पर मीडिया को जानकारी देते हुए, अमृत की अतिरिक्‍त सचिव श्रीमती डी. थारा और पीएमएवाई-शहरी के संयुक्त सचिव श्री कुलदीप नारायण ने अपने-अपने मिशनों की शुरुआत से लेकर अब तक की प्रगति की जानकारी दी। श्रीमती थारा ने जमीनी स्तर पर अमृत परियोजनाओं के कार्यान्वयन में महिलाओं और युवाओं की क्षमता निर्माण और भागीदारी पर जोर दिया।

अमृत: अग्रणी टिकाऊ शहरी बुनियादी ढांचा

अपनी शुरुआत से ही अमृत का लक्ष्य ऐसा बुनियादी ढांचा तैयार करना रहा है जो सीधे तौर पर नागरिकों को सेवा प्रदान करने में सुधार लाए। अमृत 2.0, जो मूल मिशन का विस्तार है, ने जल आपूर्ति, सीवरेज प्रबंधन और जल निकायों के कायाकल्प में महत्वपूर्ण प्रगति की है।

अमृत ​​2.0 के अंतर्गत प्रमुख उपलब्धियां:

1. व्यापक परियोजना कार्यान्वयन:

  • कुल परियोजनाएँ: 8200
  • कुल परियोजना लागत: ₹182,583.07 करोड़

2. क्षेत्रवार विश्‍लेषण:

  • जल आपूर्ति: 3530 परियोजनाएँ, ₹112,530.1 करोड़
  • सीवरेज और सेप्टेज प्रबंधन: 562 परियोजनाएँ, ₹63,790.57 करोड़
  • जल स्रोत कायाकल्‍प : 2709 परियोजनाएँ, ₹5420.5 करोड़
  • पार्क विकास: 1399 परियोजनाएँ, ₹841.91 करोड़

3. पहल और कार्यक्रम:

  • अमृत मित्र: जल क्षेत्र के कार्यों में 350 से अधिक महिला स्वयं सहायता समूहों की भागीदारी।
  • कम गहरी जलीय चट्टानी पर्त प्रबंधन परियोजना: हरियाली बढ़ाना और शहरी बाढ़ को कम करना।
  • युवा संपर्क कार्यक्रम: जल निकायों के अध्ययन में छात्रों और शिक्षकों की महत्वपूर्ण भागीदारी

पीएमएवाई-यू: ‘सभी के लिए आवास’ का सपना साकार करना

प्रधानमंत्री आवास योजना – माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने 25 जून 2015 को ‘सभी के लिए आवास’ के सपने के साथ शहरी (पीएमएवाई-यू) की शुरुआत की थी। पीएमएवाई-यू के तहत, शहरी भारत के पात्र लाभार्थियों को सभी बुनियादी सुविधाओं के साथ हर मौसम के अनुकूल पक्के घर प्रदान किए जाते हैं। अपनी यात्रा के नौ वर्षों में, पीएमएवाई-यू ने उन लाखों परिवारों का जीवन बदल दिया है जिनके लिए एक पक्का घर किसी दूर के सपने से कम नहीं था।

पीएमएवाई-यू की मुख्य विशेषताएं:

  1. आज तक 114 लाख घरों का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, जबकि 84 लाख से अधिक घर बनकर तैयार हो चुके हैं और लाभार्थियों को सौंपे जा चुके हैं। आज तक 2 लाख करोड़ रुपये की समर्पित केन्‍द्रीय सहायता में से 1.64 लाख करोड़ रुपये जारी किए जा चुके हैं।
  2. युवा पेशेवरों और मध्यम-आय वर्ग (एमआईजी) को अपना घर बनाने के लिए सशक्त बनाने के लिए, 2017-2021 से क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (सीएलएसएस) वर्टिकल के माध्यम से पहली बार एमआईजी को भी सरकारी आवास योजना में जोड़ा गया। ईडब्‍ल्‍यूएस/एलआईजी/एमआईजी के लिए सीएलएसएस के तहत 25.04 लाख लाभार्थियों के लिए 58,868 करोड़ रुपये की ब्याज सब्सिडी स्वीकृत की गई है।
  3. मिशन एक समावेशी दृष्टिकोण अपनाते हुए सभी को समान अवसर प्रदान करता है चाहे वह किसी भी लिंग, जाति, पंथ या धर्म का हो और महिला सशक्तीकरण पीएमएवाई-यू का मूल है। पीएमएवाई-यू महिला सदस्य के नाम पर या संयुक्त नाम पर घरों का स्वामित्व प्रदान करके महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देता है। महिलाओं के नाम पर 94 लाख से अधिक घर उपलब्ध कराए गए हैं, जिससे उन्हें अपनी एक पहचान मिली है।
  4. पीएमएवाई-यू के तहत बड़े पैमाने पर नई निर्माण तकनीकों को बढ़ावा दिया जा रहा है। देश के छह स्थानों पर लाइट हाउस प्रोजेक्ट (एलएचपी), कम समय में नवीन तकनीकों का उपयोग करके निर्मित किफायती आवास परियोजनाओं को बढ़ावा देने का आदर्श उदाहरण हैं और इन्हें भारतीय संबंध में आगे भी दोहराया जा सकता है। चेन्नई, राजकोट, इंदौर, लखनऊ और रांची में स्थित एलएचपी का उद्घाटन पहले ही माननीय प्रधानमंत्री द्वारा किया जा चुका है।
  5. एलएचपी के अलावा, मिशन के तहत प्रदर्शन आवास परियोजनाओं (डीएचपी) को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। डीएचपी नई/वैकल्पिक तकनीकों के साथ निर्मित मॉडल हाउसिंग प्रोजेक्ट हैं और ऐसी तकनीकों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए, आवास क्षेत्र में काम करने वालों को ऑन-साइट ओरिएंटेशन भी प्रदान किया जा रहा है।
  6. प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप, जुलाई 2020 में पीएमएवाई-यू के तहत किफायती किराये के आवास परिसरों (एआरएचसी) की उप-योजना शुरू की गई थी। दो अलग-अलग मॉडलों के तहत, एआरएचसी शहरी प्रवासियों/गरीबों को उनके कार्यस्थल के करीब सम्मानजनक किफायती किराये के आवास तक पहुँच के माध्यम से जीवन को आसान बनाते हैं।
  7. मिशन में निवेश की मात्रा ने आपूर्तिकर्ताओं और उपभोक्ताओं की ओर निर्देशित अर्थव्यवस्था पर व्यापक प्रभाव डाला है। अनुमान है कि पीएमईवाई-यू के तहत निवेश से कुल मिलाकर 323 लाख से अधिक नौकरियां सृजित हुईं, जिनमें से 100 लाख प्रत्यक्ष और 223 लाख अप्रत्यक्ष हैं। अनुमान है कि अब तक मिशन के तहत निर्माण कार्य में लगभग 55.7 मिलियन मीट्रिक टन सीमेंट और 12.6 मिलियन मीट्रिक टन स्टील की खपत हुई होगीजिससे अर्थव्यवस्था को बहुत जरूरी प्रोत्साहन मिलेगा।
  8. इसके अलावा, सरकार ने पात्र परिवारों की संख्या में वृद्धि से आय बढ़ाने के लिए, 10.06.2024 को आवास आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, 3 करोड़ अतिरिक्त ग्रामीण और शहरी परिवारों को सहायता प्रदान करने का संकल्प लिया है। तदनुसार, 1 करोड़ पात्र शहरी परिवारों को सहायता प्रदान करने के लिए पीएमएवाई-शहरी का पुनर्वास किया जा रहा है।

स्मार्ट सिटी मिशन: शहरी नवाचार और प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाना

स्मार्ट सिटी मिशन शहरी परिवर्तन का एक प्रतीक रहा है, जिसने लगभग ₹1.6 लाख करोड़ की लागत वाली 8,000 से अधिक अभिनव परियोजनाओं के माध्यम से 100 शहरों में जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाया है।

इस मिशन ने अपनी शुरुआत से ही अभिनव विचारों का प्रयास किया है, जिसमें शहरों के बीच चयन के लिए प्रतिस्पर्धा, कार्यान्वयन एजेंसियों के रूप में शहर के विशेष प्रयोजन वाहनों का उपयोग, क्षेत्र-तटस्थ, समावेशी, हितधारक संचालित और परियोजना विकास/चयन के लिए नीचे से ऊपर की ओर दृष्टिकोण, प्रौद्योगिकी/डिजिटल समाधानों का बड़े पैमाने पर उपयोग, जबरदस्त सामुदायिक भागीदारी आदि शामिल हैं। 100 शहरों में से प्रत्येक ने परियोजनाओं का एक विविध सेट विकसित किया है, जिनमें से कई बहुत ही अनोखी हैं और पहली बार लागू की जा रही हैं, जिससे शहर की क्षमताओं और अनुभव में सुधार हुआ है और शहर के स्तर पर बड़े परिवर्तन लक्ष्यों को प्राप्त किया जा रहा है।

25 जून 2024 तक, ₹1,43,778 करोड़ की 7,160 परियोजनाएँ पूरी हो चुकी थीं और ₹20,392 करोड़ की 854 अन्य परियोजनाएँ पूरी होने के उन्नत चरणों में हैं। भारत सरकार ने 100 शहरों के लिए 46,387 करोड़ रुपये जारी किए हैं। भारत सरकार द्वारा जारी किए गए धन का 93 प्रतिशत उपयोग किया जा चुका है।

स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत प्रमुख उपलब्धियां :

  1. एकीकृत कमान और नियंत्रण केन्‍द्र (आईसीसीसी):
    • सभी 100 स्मार्ट शहरों ने आईसीसीसी का संचालन शुरू कर दिया है, जो परिवहन प्रबंधन, जल आपूर्ति और ठोस कचरा प्रबंधन जैसे शहर के संचालन को बढ़ाने के लिए एआई, एलओटी और डेटा एनालिटिक्स का लाभ उठा रहा है।
  2. सार्वजनिक सुरक्षा एवं संरक्षा:
    • 100 शहरों में 76,000 से अधिक सीसीटीवी निगरानी कैमरे लगाए गए हैं, जिससे शहर-व्यापी अपराध निगरानी प्रयासों को बल मिला है।
    • 1,884 आपातकालीन कॉल बॉक्स, 3,000 सार्वजनिक संबोधन प्रणाली और यातायात प्रवर्तन प्रणालियों की स्थापना से सार्वजनिक सुरक्षा में उल्लेखनीय सुधार हुआ है।
  3. जल आपूर्ति :
    • 6,800 किलोमीटर से अधिक जल आपूर्ति प्रणाली की निगरानी एससीएडीए के माध्यम से की जा रही है, जिससे गैर-राजस्व जल और रिसाव में कमी आ रही है।
  4. ठोस कचरा प्रबंधन:
    • 50 से अधिक स्मार्ट शहरों में लगभग 4,800 वाहनों को स्वचालित वाहन स्थान (एवीएल) के लिए आरएफआईडी सक्षम बनाया गया है, ताकि ठोस कचरा प्रबंधन में सुधार हो सके, इसके अलावा मार्ग प्रबंधन, संग्रहण और दैनिक प्रबंधन आदि में सुधार के लिए नवीन प्रौद्योगिकियों का उपयोग किया जा सके।
  5. स्ट्रीट लाइट्स:
    • 50 लाख से अधिक सौर/एलईडी स्ट्रीट लाइटें लगाई गई हैं और 89,000 किलोमीटर से अधिक भूमिगत बिजली केबल बिछाई गई है।
  6. गतिशीलता समाधान:
    • इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) के साथ-साथ 12,300 किलोमीटर स्मार्ट सड़कों और 2500+ किलोमीटर साइकिल ट्रैक के विकास से यातायात संचालन और यात्रा समय को सुव्यवस्थित किया गया है।
  7. किफायती आवास और सामुदायिक विकास:
    • 44,054 आवासीय इकाइयों का निर्माण किया गया तथा रैन बसेरा, छात्रावास (गैर-शैक्षणिक), रात्रि आश्रय आदि जैसी सामुदायिक आवास परियोजनाओं में 6,312 कमरों का निर्माण किया गया।
  8. आकर्षक सार्वजनिक स्थान:
  • 1,300 से अधिक पार्क, हरित स्थल और झील/नदी तट सैरगाह विकसित किए गए/विकसित किए जा रहे हैं।
  1. स्मार्ट समाधान:
  • 9,754 वाईफाई हॉटस्पॉट स्थान बनाए गए और 76,000 से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाए गए।
  1. शिक्षा :
  • 6,855 स्मार्ट कक्षाएं विकसित की गई हैं और 40 डिजिटल लाइब्रेरी विकसित की गई हैं।
  1. स्‍वास्‍थ्‍य :
  • 308 ई-स्वास्थ्य केन्‍द्र और क्लीनिक विकसित किए गए हैं (बिना समर्पित बिस्तरों के) और 255 स्वास्थ्य एटीएम स्थापित किए गए हैं।
  1. आर्थिक केन्‍द्र :
  • 37 इनक्यूबेशन सेंटर/कौशल विकास केन्‍द्र विकसित किए गए और 50 से अधिक बाजार पुनर्विकास परियोजनाएं पूरी की गईं।
  1. पीपीपी :
  • 51 शहरों ने सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) के तहत लगभग 10,000 करोड़ रुपये की लागत की 200 परियोजनाओं को सफलतापूर्वक विकसित किया है।
  1. जलवायु लचीलापन :
  • 153 पर्यावरण सेंसर लगाए गए, तथा 5,300 से अधिक कार्मिकों और स्वयंसेवकों को आपदा प्रतिक्रिया के लिए प्रशिक्षित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *