कागजों पर हुआ एमओयू जमीनी हकीकत कुछ और ही है, नहीं मिला 62 हजार लोगों को रोजगार व 42 हजार करोड़ रुपये नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने कागजों पर ही एमयूओ करके केवल वाहवाही लूटने में लगी है जमीनी हकीकत कुछ और ही है। एक जनवरी 2019 से 1 जनवरी 21 तक प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने 108 एमओयू किये हैं। जिसमें खुद प्रदेश सरकार द्वारा 6 एमयूओ निरस्त कर दिये गये हैं जो कई सवालों को जन्म देता है। उन्होंने कहा कि इन एमओयू से प्रदेश में 42,385 करोड़ रुपये का निवेश होना था तथा इसमें 62,670 लोगों को रोजगार से देने का प्रावधान किया गया था,लेकिन मात्र 9 उद्योग ने केवल 190 करोड़ का ही निवेश किया है तथा एक भी व्यक्ति को रोजगार नहीं मिल है। निवेश को लेकर कोई ठोस नीति नहीं है जिसके कारण ही उद्योग घराने भी निवेश नहीं कर रहें हैं।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि 93 उद्योगों ने एक पैसे का भी निवेश नहीं किया और न ही निवेश को लेकर कोई रूचि दिखाई है। इससे प्रतीत होता है कि प्रदेश सरकार की ओर से कोई अनूकुल वातावरण भी नहीं बनाया जा रहा है, जिसके कारण निवेश करने के एलान के बाद भी उद्योगों द्वारा उद्योग एमयूओ बाद भी कोई रूचि नहीं ली जा रही है। अब तक मां कुदरगढ़ी रिफायनरी को 1146 करोड़, रीयल इस्पात को 7 सौ करोड़, सारड़ा एनर्जी को 710 करोड़ व निसर्ग इस्पात को 920 करोड़, करणी कृपा पावर को 8 सौ करोड़, नूतन स्टील को 980 करोड़ व गोदवारी इस्पात को 23 सौ करोड़ का निवेश करना था इस सबके बाद भी एक भी पैस का निवेश नहीं किया गया है। उक्त अनुसार बड़े निवेशकर्ता उद्योगों के द्वारा रूचि नहीं लेने से प्रदेश में रोजगार का सृजन नहीं हो पाया है।उन्होंने कहा कि जब प्रदेश में हमारी सरकार थी तो करीब 70 प्रतिशत एमओयू में निवेश हूए थे जिसके कारण प्रदेश में उद्योग के विकास को गति मिलीं थी और रोजगार का भी सृजन हुआ था लेकिन प्रदेश कांग्रेस सरकार के द्वारा केवल वाहवाही के लिये एमयूओ किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *