Monday, April 15

कानून नहीं मानकर हिंसा फैलाने वाली पार्टी को जनता सिखायेगी सबक नीलू चंद्रवंशी

 

कवर्धा। कांग्रेस ने कवर्धा में दबाव पूर्वक नगर बंद कराने तथा कानून को हाथ में लेकर बगैर अनुमति जुलूस निकालने वाली भाजपा को समाज में शांति के लिए खतरा बताया है। भाजपा की ओर से कबीरधाम जिला भाजपा अध्यक्ष अनिल सिंह ठाकुर के इस बयान पर कि कांग्रेस की सरकार कानून व्यवस्था नहीं संभाल पा रही है पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। कांग्रेस पार्टी के जिला अध्यक्ष नीलकंठ (नीलू) चन्द्रवंशी ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह समाज में अशांति फैलाकर अपनी राजनीति चमकाना चाहती है।
नीलकंठ चन्द्रवंशी ने कहा है कि भाजपा उपद्रव फैलाकर कानून व व्यवस्था की स्थिति बिगाड़ना चाह रही है। अपनी राजनैतिक रोटी सेंकने के लिए भाजपा ने 20 नवम्बर को कवर्धा में हंगामा मचाकर नगर को बंद कराया। नगर में हो रहे सड़क निर्माण के लिए रखी गई गिट्टी को लेकर 02 पड़ोसियों जो कि छोटा-मोटा धंधा करते है के बीच विवाद हुआ। एफ.आई.आर. होने पर पुलिस ने सभी नामजद तीनों आरोपियों को तत्तपरता से गिरफ्तार किया तथा मजबूत मामला बनाकर कोर्ट में पेश किया गया जिससे आरोपियों को जेल भेजा जा सका। कानून का पूरी तरह से पालन कराया गया। इसके बावजूद भाजपा ने गंदी राजनीति करते हुए नगर में गंुडागर्दी करते हुए दबाव डालकर बिना अनुमति के रैली निकाली, आपत्तिजनक नारे लगाए साथ ही कांग्रेस भवन में घुसने का प्रयास किया। इस तरह की घृणित राजनीति भाजपा द्वारा की जा रही है।
जिला कांग्रेस अध्यक्ष नीलकंठ चंद्रवंशी ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार दिन-रात छत्तीसगढ़ की जनता के लिए कार्य कर प्रदेश को विकास की ओर अग्रसर किए जा रही है। कवर्धा के विधायक व प्रदेश के मंत्री मोहम्मद अकबर के मार्गदर्शन में जिले भर में विकास के कार्य तेजी से कराए जा रहे है। भाजपा को आम-जनता के हितों से कोई लेना-देना नहीं है। 15 वर्षों तक छत्तीसगढ़ को दोनों हाथों से लूटने वाले भाजपा नेता व कार्यकर्ता सत्ता के लिए तड़फ रहे है। इसके लिए सांप्रादायिक मौहाल बनाकर हिंसा फैलाने की साजिश रच रहे है। भाजपा प्रदेश व कबीरधाम जिले में अपने राजनैतिक भविष्य को लेकर घबराई हुई है। दंगा फसाद की स्थिति पैदाकर अपनी राजनीति को मजबूत करना चाहती है। भाजपा के इस तरह के कृत्य से आम जनता परेशान हो रही है। कवर्धा में बेवजह बंद कराया गया तो व्यापारी भाईयों को तो नुकसान हुआ ही साथ ही रोज कमाने, रोज खाने वाले मजदूरों पर यह आघात की तरह था। झुण्ड के झुण्ड भाजपा के कार्यकर्ता तनाव फैलाने वाले नारे लगाते हुए नगर में घुम रहे थे जिससे आम जनता में भय का माहौल बन गया था। भाजपा के पदाधिकारी व नेतागण बड़ी बड़ी बातें करते है। पहले वे बताये कि लाउडस्पीकर पर चिल्लाते हुए दुकाने बंद करने की धमकी देना, बगैर अनुमति लिए नगर में जुलूस निकालना क्या सही है? भाजपा कानून को मानती है कि नहीं ? यदि मानती है तो यह सब क्यों किया गया? भाजपा की चाल को जनता समझ रही है तथा जनता में भाजपा के प्रति गहरा आक्रोश छा गया है। जनता भाजपा को माफ नहीं करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *