चर्च में मनाया गया पाम संडे, कोरोना काल होगी ऑनलाइन आराधना

रायपुर। राज्यभर में रविवार को पाम संडे यानी खजूर इतवार मनाया गया। इसके साथ ही दुख भोग सप्ताह की शुरूआत हो गई। कोरोना की वजह से चर्चों में ऑनलाइन आराधनाएं की जा रही हैं। लेकिन मसीहीजन इस पूरे भक्तिभाव वी श्रद्धा से संपन्न कर रहे हैं। आज गिरजाघरों को खजूर की डालियों से सजाया गया था। प्रभु यीशु मसीह ने राजाओं की की तरह यरूशलेम में प्रवेश किया था। लोगों ने उनके स्वागत में राह में खजूर की डालियां बिछाईं थीं। इसकी याद में पाम संडे मनाया जाता है। सोमवार से प्रतिदिन शाम साढ़े छह बजे से दुख भोग सप्ताह की ऑनलाइन आराधना होगी। छत्तीसगढ़ डायोसिस के प्रवक्ता जॉन राजेश पॉल ने बताया कि
सेंट पॉल्स कैथेड्रल में छत्तीसगढ़ डायसिस के बिशप राबर्ट अली इस विशेष अवसर पर उपदेश दिया। इसे सभी चर्चों में प्रसारित किया गया। पादरी अजय मार्टिन आराधना का संचालन किया। पादरी शमशेर सैमुअल ने सार्वभौमिक प्रार्थना की। धर्मशास्त्र का पाठ सेवक अब्राहम दास, सेवक इस्माइल मसीह और सुसमाचार का पाठ पादरी असीम विक्रम ने वाचन किया। पत्री का पाठ पादरी सैमुअल ने किया। दान पर आशीष पास्टर एमआर पत्र ने मांगी। परहित निवेदन पादरी सुनील कुमार ने किया। इसी तरह सेंट जोसफ महागिरजाघर में प्रदेश की कैथोलिक डायसिस के आर्च बिशप विक्टर हैनरी ठाकुर उपदेश दिया। विकार जनरल फादर सेबेस्टियन पी. मुख्य पुरोहित फादर जोस फिलिप भी संडे मास संपन्न कराया। शनिवार को 40 दिनी उपवासकाल समाप्त हो गया। इसका ब्योरा मनशीष केजू ने दिया। गुरुवार को सभी चर्चों में पुण्य गुरुवार को अंतिम ब्यारी की आराधना होगी। शुक्रवार को गुड फ्राइडे पर प्रभु यीशु के क्रूस पर कहे सात वचनों पर मनन होगा। मसीही समाज पूरे दिन उपवास पर रहेगा। रविवार चार अप्रैल को पुनरूत्थान पर्व यानी ईस्टर मनाया जाएगा। कैपिटल पास्टर्स फैलोशिप व पास्टर एंड लीडर्स एसोसिएशन ने गिरजाघरों में दुखभोग सप्ताह के लिए शासन की गाइड-लाइन के अनुसार इंतजाम किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *