Sunday, July 21

राजनांदगांव : पर्यावरण संरक्षण एवं ग्राम के विकास के लिए सभी मिलकर करें कार्य – विधानसभा अध्यक्ष डॉ. रमन सिंह

– विधानसभा अध्यक्ष मिशन जल रक्षा अंतर्गत वृक्षारोपण महाभियान में हुए शामिल
– मिशन जल रक्षा अंतर्गत बोरवेल रिचार्ज साफ्ट सैंड फिल्टर का किया शुभारंभ
– जिले के समस्त ग्राम पंचायत में किया गया 40 हजार से अधिक पौधरोपण
– उद्योगपति, स्वयंसेवी संस्थानों ने निभाई वृक्षारोपण महाभियान में सहभागिता


राजनांदगांव 03 जुलाई 2024। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. रमन सिंह आज राजनांदगांव विकासखंड के ग्राम बरगा में वृक्षारोपण महाभियान में शामिल हुए। विधानसभा अध्यक्ष ने आरसेटी परिसर में पौधरोपण किया। इस दौरान उन्होंने ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान बरगा (आरसेटी) में जिला प्रशासन द्वारा जल संरक्षण के लिए चलाए जा रहे मिशन जल रक्षा अंतर्गत बोरवेल रिचार्ज साफ्ट सैंड फिल्टर का भी शुभारंभ किया। उन्होंने मिशन जल रक्षा के विभिन्न घटकों बोरवेल रिचार्ज साफ्ट सैंड फिल्टर निर्माण एवं जल संरक्षण के लिए किए जा रहे कार्यों के संबंध में जानकारी भी ली। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने कहा कि सभी मिलकर ग्राम के विकास के लिए कार्य करें। पर्यावरण संरक्षण सबकी जिम्मेदारी है, जिसके लिए पौधरोपण जरूरी है। ज्यादा से ज्यादा छायादार एवं फलदार पौधे लगाएं। फलदार पौधों से समूह की महिलाओं को आमदनी भी होगी। उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा जल संरक्षण की दिशा में किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी मिलकर कार्य करेंगे तो इसका परिणाम अच्छा रहेगा। उन्होंने परिसर में आम, अमरूद, आंवला, जामुन, मुनगा, चीकू, बेर, केला सहित अन्य पौधों का अवलोकन किया और प्रशंसा की। डॉ. रमन सिंह ने आरसेटी बरगा में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही महिलाओं से बातचीत की और अच्छी तरह से प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि विभिन्न क्षेत्रों में मार्केट में मांग के अनुरूप प्रशिक्षण प्राप्त करें, जिससे आय में वृद्धि होगी। उन्होंने कहा कि बोरवेल रिचार्ज साफ्ट सैंड फिल्टर जल संरक्षण की दिशा में एक अच्छी पहल है, जिसमें जल संरक्षण के बाद फिल्टर का कार्य होगा।
कलेक्टर श्री संजय अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि सेन्ट्रल ग्राऊण्ड वाटर बोर्ड के सर्वे के अनुसार डोंगरगांव, डोंगरगढ़ एवं राजनांदगांव क्रिटिकल जोन में आ गए हैं। लगातार बोर एवं पंप से जल दोहन के कारण भू-जल स्तर में गिरावट आयी है। जिले में मिशन जल रक्षा के तहत विभिन्न जलीय संरचनाओं के माध्यम से भू-जल स्तर को बढ़ाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। इसके लिए डबरी निर्माण, तालाब निर्माण, परकोलेशन टैंक, एवं अन्य वाटर रिचार्ज स्ट्रक्चर बनाए जा रहे हंै। उन्होंने बताया कि जिले में धान के बदले कम पानी की आवश्यकता वाले फसलों को बढ़ावा देने के लिए कार्य किया जा रहा है। साथ ही फसल संगोष्ठी का भी आयोजन किया जा रहा है। जिला पंचायत सीईओ सुश्री सुरूचि सिंह ने बताया कि जल संरक्षण के कार्य में नारी शक्ति को भी जोड़ा गया है। कैच द रैन अभियान अंतर्गत लगातार जल सरंक्षण के लिए कार्य किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में जल संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए कार्य किया जा रहा है। वीडियो के माध्यम से जल संरक्षण के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी गई।
उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन द्वारा जिले में मिशन जल रक्षा अंतर्गत जल संरक्षण के लिए निरंतर प्रयास किया जा रहे हैं। जिसके तहत जिले के सभी ग्राम पंचायतों, नगरीय निकायों में निजी संस्थानों, उद्योगपतियों, निजी विद्यालयों, महाविद्यालयों, स्वयंसेवी संस्थान के सहयोग से बड़े पौधे एवं ट्री गार्ड प्राप्त करते हुए तथा नर्सरी से पौधे एकत्रित कर आज जिले में 40 हजार से अधिक पौधे ग्राम पंचायत एवं नगरीय निकायों के तालाबों, शासकीय स्कूलों, चारागाह, पशु आश्रय स्थल, आंगनबाड़ी, धान खरीदी केंद्र, विभिन्न सड़कों में पौधरोपण किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती गीता घासी साहू, श्री सचिन बघेल, श्री रमेश पटेल, श्री संतोष अग्रवाल, श्री अशोक देवांगन, श्री सुर्यकांत भंडारी, श्रीमती प्रतीक्षा भंडारी, श्रीमती पुष्पा गायकवाड़, श्री कुमार सोनवानी, श्री लीलाधर साहू, श्री रोहित चंद्राकर, अन्य जनप्रतिनिधि, संयुक्त कलेक्टर श्री खेमलाल वर्मा, सहित अन्य अधिकारी एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *