अमित जोगी ने लिखा प्रियंका गाँधी को पत्र, प्रियंका को याद दिलाया UP में उनका नारा “संविदा नहीं सम्मान चाहिए” हिट्लरशाही में छत्तीसगढ़ सरकार ने UP सरकार को कोसों मील पीछे छोड़ दिया – अमित जोगी

 

*13000 संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की सेवा समाप्ति, उनके विरुद्ध FIR करने का आदेश वापस लिया जाकर उन्हें तत्काल नियमित करने मांग – जेसीसी*

 

रायपुर, छत्तीसगढ़ दिनांक 22 सितंबर 2020। जनता काँग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष श्री अमित जोगी ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी की महासचिव श्रीमती प्रियंका गाँधी वाड्रा को पत्र लिखते हुए प्रदेश के हज़ारों संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की सेवा समाप्ति और उनके विरुद्ध FIR करने का आदेश वापस लेने और उन्हें तत्काल नियमित करने छत्तीसगढ़ सरकार को मार्गदर्शन देने का मांग किया है।*

*अमित जोगी ने कहा श्रीमती प्रियंका गाँधी ने नौकरी और नियमितिकरण की माँगों को लेकर भाजपा की उत्तर प्रदेश सरकार को आड़े हाथों ले रखा है। श्रीमती गाँधी के नारे ‘संविदा नहीं सम्मान चाहिए’ को याद दिलाते हुए कहा आपका यह नारा उत्तर प्रदेश के संविदा कर्मचारियों के दिलों में नई उमंग भर दी है। इसलिए मुझे पूरा विश्वास है कि आप छत्तीसगढ़ के भी लाखों संविदा कर्मचारियों की जायज़ नियमितिकरण की माँग से पूरी तरह सहमत होंगी। आपकी पार्टी ने खुद उन्हें उसकी सरकार के दस दिन के भीतर नियमित करने का वादा किया था। लेकिन आपकी पार्टी इंडीयन नैशनल कांग्रेस की छत्तीसगढ़ सरकार स्वयं इन माँगों को लेकर न केवल अपनी चुनावी घोषणाओं से मुकर रही है बल्कि इन माँगों को उठाने वालों को कुचलने में भी कोई कसर नहीं छोड़ रही है।*

*अमित जोगी ने कहा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के हज़ारों संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की सेवा समाप्त और उनके विरुद्ध FIR करने का आदेश छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के तानाशाही रवैये को दर्शाता है। ये कहने में अतिशयोक्ति नहीं होगी कि हिट्लरशाही में छत्तीसगढ़ के माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी की सरकार ने उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की सरकार को कोसों मील पीछे छोड़ दिया है।*

*अमित जोगी ने कहा छत्तीसगढ़ में कोरोना की लड़ाई में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के हज़ारों संविदा स्वास्थ्यकर्मियों विषम परिस्थितियों में भी निस्वार्थ भावना से अग्रिम पंथी में रहकर काम कर रहे थे। 18 महीनों से वे सरकार से लगातार अपने नियमितिकरण की गुहार लगा रहे थे लेकिन सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंगी। ऐसे में हड़ताल करने के अलावा उनके पास और कोई रास्ता भी नहीं बचा था।*

*अमित जोगी ने श्रीमती प्रियंका गाँधी को लिखे पत्र में यह भी कहा छत्तीसगढ़ सरकार को आपके संघर्ष का अनुसरण करते हुए संवेदनशील होकर अपना वादा पूरा करना चाहिए था लेकिन ऐसा न करके उसने न केवल संविदा स्वास्थ्यकर्मियों के साथ बल्कि प्रदेश की जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया है। अतः मैं आपसे हाँथ जोड़कर विनती करता हूँ की आप स्वयं इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को प्रदेश के हज़ारों संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की सेवा समाप्ति और उनके विरुद्ध FIR करने का आदेश वापस लेने और उन्हें तत्काल नियमित करने का मार्गदर्शन देनी की असीम कृपा करेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *