आतंक पीड़ितों के साथ दंगा एवं नक्सल प्रभावितों को भी आरक्षण दिया जाए-रिजवी

रायपुर। दिनांक 24/09/2020। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख, मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष, पूर्व उपमहापौर तथा वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने कहा है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं कल्याण मंत्रालय द्वारा सभी राज्यों एवं केन्द्र शासित राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र प्रेषित किया गया है कि जिसमें आतंकवादी घटनाओं के पीड़ितों को एम.बी.बी.एस. तथा बी.डी.एस. में दाखिले के लिए आरक्षण दिए जाने के प्रावधान को अमलीजामा पहनाने में सक्रिय योगदान देने आदेशित किया है जो सराहनीय के साथ-साथ सभी को स्वीकार्य भी होगा क्योंकि आतंकवादी घटनाओं में शहीद सैनिकों के परिवार को बिखरने से रोका जा सकेगा तथा भविष्य सुनिश्चित भी हो सकेगा।
रिजवी ने इस आरक्षण की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए कहा है कि इस श्रेणी के आरक्षण में उन परिवारों के आश्रितों को भी शामिल किया जाए जिनके परिवार के सदस्य दंगों एवं नक्सली घटनाओं में शहीद होते हैं। ऐसी शहादतों को अलग वर्गों में बांटना उचित नहीं है। शहीदों का परिवार जो प्रभावित होता है उन सभी को एक ही चश्में से देखना चाहिए। भारत जैसे सैक्यूलर देश में आतंक पीड़ित समाज दया एवं तवज्जों के पात्र है, चाहे वह आतंकी घटना हो, नक्सली वारदात या जातीय दंगे सभी के लिए इस आरक्षण में स्थान दिया जाना चाहिए। उपरोक्त घटनाओं में शहीद के आश्रित परिवार को एक करोड़ की राशि मुआवजे में दिए जाने का प्रावधान भी होना चाहिए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *