Sunday, July 21

शालाओं का किया गया जीर्णोद्धार, बच्चों को पढ़ाई के लिए मिल रही बेहतर सुविधाएं

जगदलपुर । राज्य शासन के निर्देशानुसार जिला प्रशासन एवं समग्र शिक्षा संयुक्त प्रयास से शालाओं के जीर्णोद्धार एवं मरम्मत का कार्य व्यापक पैमाने पर किया जा रहा है। गुणवत्तायुक्त शिक्षा के लिए अधोसंरचना की मजबूती प्रदान करने के लिए शासन द्वारा लगातार बेहतर कार्य करने का प्रयास किया जा रहा है। शालाओं में शिक्षकों को बेहतर अद्योसंरचना बेहतर मिलने पर नौनिहालों का भविष्य गढ़ते है। उन्हें पढ़ाई के लिए बेहतर माहौल मिले एवं सुविधाएं उपलब्ध हो इस के लिए शालाओं का जीर्णोद्धार का कार्य प्राथमिकता से किया जा रहा है। जिला के दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र अंचलों में बच्चो को पढ़ाई का बेहतर अवसर प्राप्त हो, और पर्याप्त व्यवस्था रहे इसके लिए जतन किये जा रहे है ।

बस्तर जिले में कुल 2164 शालाएं संचालित है इसमें 1526 प्राथमिक शाला एवं 638 पूर्व माध्यमिक शालाएं है।जिनमें से अधिकांश शालाएं सुदूर घोर क्षेत्रों में संचालित है। जहां आवागमन की कमी है। इसके उपरांत भी शालाओं में मूल-भूत सुविधाएं शासन से उपलब्ध कराई गई है। जैसे 70 जर्जर शालाओं में मरम्मत का कार्य 01 करोड़ 70 लाख 13 हजार रूपए की लागत से जीर्णोद्धार किया गया है। इसी प्रकार आंशिक रूप से जर्जर शालाओं में बीआईजीएस मद अन्तर्गत 73 शालाओं में लघुमरमत का कार्य लागत 01 करोड़ 86 लाख 37 हजार रूपए से पूर्ण करवाया गया है। जिससे शाला में एक सुन्दर वातावरण का निर्माण हुआ है। जिस कारण वर्षा ऋतु में भी छात्र-छात्राएं बिना किसी कठिनाई के अध्ययन कर रहें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *