ओ पी जिन्दल को उनकी 16 वीं  पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए : जिन्दल कर्मियों ने कर्मयोद्धा को याद किया

स्वावलंबी राष्ट्र और लोगों की खुशहाली के लिए आजीवन संघर्षरत रहे ओपी जिन्दल, प्रदीप टण्डन

हरियाणा के पूर्व ऊर्जामंत्री, ओपी जिन्दल ग्रुप के संस्थापक, इस्पात जगत के पुरोधा और प्रखर समाजसेवी ओपी जिन्दल जी की 16वीं पुण्यतिथि पर जेएसपीएल के मशीनरी डिवीजन में दी गई श्रद्धांजलि

रायपुर, 31/03/2021, बुधवार (IMNB NEWS AGENCY )  आज प्रातः 9 बजे कर्यलयीन कर्मियों द्वारा श्रद्धेय ओ पी जिन्दल, बाऊजी को स्मरण कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए गए।  जेएसपीएल के प्रेसिडेंट श्री प्रदीप टंडन ने कहा कि श्री ओपी जिन्दल स्वावलंबी राष्ट्र के निर्माण और लोगों की खुशहाली के लिए आजीवन संघर्षरत रहे। वे ओपी जिन्दल ग्रुप के संस्थापक, जेएसपीएल के प्रणेता, इस्पात जगत के पुरोधा, स्वावलंबी राष्ट्र के स्वप्नद्रष्टा, हरियाणा के ऊर्जामंत्री और प्रखर समाजसेवी थे।

यहां आज  ओपी जिन्दल जी की 16वीं पुण्यतिथि पर कोविड-19 महामारी की सतर्कताओं और सावधानियों को अपनाते हुए आयोजित प्रार्थना सभा में  प्रदीप टंडन ने कहा कि बाऊजी के सामने अनेक चुनौतियां आईं लेकिन उन्होंने सभी का दृढ़तापूर्वक मुकाबला किया और स्वावलंबी भारत के निर्माण को एक नई दिशा दी। वे राष्ट्र निर्माण के प्रति समर्पित रहने के साथ-साथ जरूरतमंदों, दलितों, पिछड़ों और किसानों के विकास के लिए आजीवन संघर्षरत रहे।उन्होंने कहा कि सामाजिक विकास को लेकर बाऊजी का दृष्टिकोण स्पष्ट था। उनका कहना था कि एक स्वस्थ व्यक्ति ही राष्ट्र का निर्माण कर सकता है और शिक्षा विकसित समाज के लिए एक आवश्यक आधारभूत तत्व है। विशेषकर बेटियों की शिक्षा पर उन्होंने जोर दिया। बाऊजी ओपी जिन्दल जी का जीवन प्रेरणा के स्रोत के रूप में आने वाली पीढ़ियों का सदैव मार्गदर्शन करता रहेगा।

श्री टंडन ने कहा कि बाऊजी के दिखाए मार्ग पर चलकर ही चेयरमैन श्री नवीन जिन्दल शिक्षा, चिकित्सा के साथ-साथ सामाजिक सेवाओं के प्रति समर्पित हैं। उन्होंने ओपी जिन्दल स्कूल, ओपी जिन्दल यूनिवर्सिटी और ओपी जिन्दल कम्युनिटी कॉलेज के साथ-साथ रायगढ़ में फोर्टिस-ओपी जिन्दल अस्पताल जनसेवा को समर्पित कर उल्लेखनीय कार्य किया है।इस अवसर पर प्लांट हेड श्री अरविंद तगई, सूर्योदय दुबे सहित समस्त कर्मचारियों ने श्री ओ.पी. जिन्दल जी को श्रद्धांजलि अर्पित कर उनके दिखाए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *